• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

..मुंह बोली मां का किया अंतिम संस्कार, 26 दिनों तक की थी सेवा

funeral done of mother in sultanpur - Sultanpur News in Hindi

सुलतानपुर। वैसे तो संसार में बहुत सारे रिश्ते हैं, मां-बेटे, बहन-भाई, पति-पत्नी ऐसे तमाम रिश्ते हैं जिन्हें समाज के अंदर खासा मुकाम हासिल है। कभी-कभी इन रिश्तों में खटास भी आ जाती है, और कभी इन रिश्तों के बीच ऐसी आग भड़कती है जो रिश्तों को कलंकित कर जाती है। लेकिन इन सब रिश्तों के ऊपर एक रिश्ता मानवता का है जो कि तमाम तर रिश्तों पर भारी है। ज़िले के एक निजी नर्सिंग होम में कार्यरत डा. आशुतोष श्रीवास्तव यही रिश्ता घर कर गया है। यही वजह है कि एक लावारिस मां की निस्वार्थ भाव से उन्होंने 26 दिनों तक सेवा किया और जब उस मां ने दम तोड़ दिया तो बेटे का फ़र्ज़ निभाते हुए उस मां का अंतिम संस्कार किया।



गौरतलब रहे कि डा. आशुतोष शहर के एक निजी नर्सिंग होम में प्रैक्टिस करते है। इसके साथ ही उन्हें समाज सेवा का शौक है। अक्सर करके के शाम-सुबह वो शहर के प्रमुख चौराहो और जिला अस्पताल में इस खोज ख़बर के लिए पहुंच जाते हैं के कोई लाचार-मजबूर सड़क पर भूख और दर्द से कराह तो नहीं रहा। ऐसे में अब लोग किसी लावारिस को परेशा हाल देख उन्हें सूचित भी करने लगे हैं।

22 जुलाई की बात है सुबह डा. आशुतोष के पास जिला अस्पताल से एक काल आई कि एक 90 वर्षीय लावारिस वृद्धा यहां पड़ी है। सारे काम-काज छोड़ उन्होंने स्कूटी स्टार्ट किया और अस्पताल पहुँच गए। आशुतोष बताते हैं कि बूढ़ी मां का दाहिना हाथ टूटा हुआ था, पैर पर पट्टी बंधी थी उसे खोला गया तो उसमें गम्भीर घाव बन चुका था जिसमें कीडे पड़े थे। वो बताते हैं कि सबसे पहले उन्हें नहलाया धुलाया गया फिर उनका इलाज शुरु कराया।


डा. आशुतोष बताते हैं कि उस मां की पहचान के लिए उन्होंने अस्पताल का रजिस्टर चेक कराया तो पता चला उनका नाम सुखराजी है जो मुसाफिरखाना के दादरा की रहने वाली है। डा. ने बताया कि गाँव के प्रधान से बातचीत की गई तो उसने एक दिन का समय मांगा। लेकिन दूसरे दिन उसने बताया कि उसके गाँव में ऐसी कोई वृद्धा नहीं है। फिर क्या था हर दो दिन पर आशुतोष अपने किसी न किसी साथी के साथ आते मां को नहलाते धुलाते और कुछ खिला पिलाकर चले जाते।

इसी तरह दिन गुज़रता गया, मां सुखराजी की हालत में कुछ सुधार भी आया, लेकिन एकाएक 17 अगस्त को उस मां ने दम तोड़ दिया। इसकी ख़बर जैसे ही आशुतोष और उनके साथियों को लगी तो सभी की आँखों में आंसू आ गए। खैर 18 अगस्त तक लाश मर्चरी में रही और 19 अगस्त को लाश का पोस्टमार्टम हुआ। इधर आशुतोष ने जिला प्रशासन और पुलिस से लाश का अंतिम संस्कार करने की इजाज़त मांगा। इजाज़त मिलने के बाद देर शाम शहर के हथियानाला स्थित श्मशान घाट पर साथियों के साथ उन्होंने मां का नम आँखों के साथ अंतिम संस्कार किया।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-funeral done of mother in sultanpur
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: funeral done, mother, sultanpur, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, sultanpur news, sultanpur news in hindi, real time sultanpur city news, real time news, sultanpur news khas khabar, sultanpur news in hindi
Khaskhabar UP Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

उत्तर प्रदेश से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2020 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved