• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

विवेक मर्डर केस: मुझे बचाने के लिए सर गाड़ी भगाते रहे- चश्मदीद सना खान

Vivek Murder case eye witness Sana Khan said - Sir keep driving to save me - Lucknow News in Hindi

लखनऊ। लखनऊ के गोमती नगर इलाके में बीते शुक्रवार की देर रात ऐपल एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी की हत्या के मामले में कलीग और उस रात के हादसे की एकमात्र चश्मदीद गवाह सना ने पुलिस की उस थिअरी का भंडाफोड़ कर दिया जिसमें बताया जा रहा था कि कॉन्स्टेबल प्रशांत चौधरी ने डिवाइडर पर खड़े होकर गोली चलाई थी और उस वक्त कार खड़ी हुई थी। सना बताती हैं, 'कार उस समय नॉर्मल स्पीड में थी और सड़क के बाईं ओर ही चल रही थी और ऐसा कुछ भी नहीं था जो पुलिस को फायरिंग करने पर मजबूर करे।'

सना ने बताया, सर के गोली लगी थी, 'जितनी जान बची थी उनमें, उतने में वह आगे गाड़ी बढ़ाते रहे... वह गाड़ी बढ़ाते रहे और कुछ दूरी पर स्थित एक खंभे से कार टकरा गई और वह अपनी सीट पर पीछे की ओर गिर गए और उनका सिर एक ओर झुक गया। वह तब भी सांस ले रहे थे।'

इस हादसे को चार दिन बीत गए हैं लेकिन उस अंधेरी रात को यादकर सना आज भी सिहर उठती हैं। न ठीक से सो पाती हैं और न ही कुछ खाती हैं। वह बताती हैं, 'हम फोन लॉन्च के कार्यक्रम से लौट रहे थे जब दो वर्दीधारी कॉन्स्टेबल एक मोटरबाइक से कार की तरफ आए। कार नॉर्मल स्पीड से चल रही थी और सामने मोटरबाइक आकर खड़ी हो गई। पिछली सीट पर बैठा एक कॉन्स्टेबल बाइक से उतरा।

'एक कॉन्स्टेबल मुझे लाठी से कोंचने लगा'

उन्होंने आगे बताया, 'कॉन्स्टेबल के हाथ में लाठी थी। वह हमें रोकना चाहते थे और कार से बाहर आने के लिए बोल रहे थे लेकिन काफी रात हो चुकी थी और हमें पता नहीं था कि क्यों रोका जा रहा है। सर ने एक जिम्मेदार शख्स की तरह कार धीरे-धीरे बढ़ाई क्योंकि बगल में महिला बैठी थी। वह (कॉन्स्टेबल) हमपर चिल्ला रहे थे और किसी पहचान के लिए नहीं पूछा था। हमने उनसे कुछ बोला भी नहीं और न ही कोई कहासुनी हुई। कुछ देर बाद कॉन्स्टेबल मेरी तरफ वाली खिड़की पर आया और अपनी लाठी से मुझे कोंचने लगा। सर ने उसे हटाने की कोशिश की।'

'गोली लगने के बाद भी गाड़ी चलाते रहे सर'
सना ने बताया, 'अगले ही पल दूसरा कॉन्स्टेबल जो कार के सामने खड़ा था उसने अपनी पिस्तौल निकाली और सर पर फायर कर दिया। सर के खून निकलने लगा। मैं डर गई थी और चिल्ला रही थी। मुझे नहीं पता था कि क्या करना है। मैं खून रोकने के लिए चोट की तरफ देखने का प्रयास कर रही थी लेकिन सर ने कार चलानी जारी रखी। कॉन्स्टेबल का मोटरबाइक से उतरना और गोली चलाना अचानक सब एक मिनट में हो गया।'

सना ने आगे बताया, 'जब सर कार आगे की ओर कार बढ़ाने लगे थे तो उनकी कार का आगे का पहिया मोटरबाइक के आगे के पहिए से टकरा गया था जिससे वह सड़क पर गिर गई थी। लेकिन कोई भी सिपाही इस वजह से घायल नहीं हुआ था।' विवेक ने कार तकरीबन आधा किमी तक चलाई और कार सड़क किनारे लगे एक खंभे से टकरा गई। सना गाड़ी से बाहर आई और मदद के लिए चिल्लाने लगी।

'मदद के लिए चिल्लाती रही कोई नहीं आया'
वह कहती हैं, 'मेरे पास मेरा फोन नहीं था इसलिए मैंने सड़क किनारे खड़े कुछ ट्रक ड्राइवरों से फोन के लिए कहा लेकिन उन्होंने कहा कि उनके पास नहीं है। मैं इधर-उधर मदद के लिए दौड़ती रही। लगभग 10-15 मिनट बाद एक पुलिस पट्रोल गाड़ी वहां आई। उन्होंने ऐंबुलेंस को कॉल करने की कोशिश की लेकिन काफी समय लग रहा था इसलिए तय किया गया कि सर को पुलिस की गाड़ी में ही ले जाया जाएगा।'

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Vivek Murder case eye witness Sana Khan said - Sir keep driving to save me
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: vivek murder case, eye witness, sana khan, vivek murder, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, lucknow news, lucknow news in hindi, real time lucknow city news, real time news, lucknow news khas khabar, lucknow news in hindi
Khaskhabar UP Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

उत्तर प्रदेश से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved