• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

जागरूकता के अभाव में आमजन अपने अधिकारों से वंचित - झाला

Due to lack of awareness, common people are deprived of their rights - Jhala - Udaipur News in Hindi

- मानवाधिकार आयोग के सदस्य एवं पूर्व न्यायाधीश ने व्याख्यानमाला को संबोधित करते हुए कहा

उदयपुर । जो अधिकार संविधान में दिये गए हैं, वही अधिकार मानवाधिकार में भी दिये गए हैं, किन्तु जागरूकता के अभाव में आमजन अपने अधिकारों से वंचित हैं। अधिकार के साथ हमारे कई कर्तव्य भी है। मानवाधिकार से जुड़े प्रावधान और योजनाएं तो है लेकिन इसका सही क्रियान्वयन नहीं हो रहा है। इसकी जिम्मेदारी सरकार, एनजीओ के साथ-साथ हम सभी की है। उक्त विचार शनिवार को जनार्दनराय नागर राजस्थान विद्यापीठ (डीम्ड टू बी विश्वविद्यालय) के संघटक विधि महाविद्यालय के प्रशासनिक भवन में मानवाधिकार दिवस की पूर्व संध्या पर आयोजित व्याख्यानमाला में राजस्थान हाईकोर्ट जोधपुर के पूर्व न्यायाधीश एवं राज्य मानवाधिकार आयोग के सदस्य आर.सी. झाला ने बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त की।

उन्होंने कहा, हमारे समाज और समाज में लिंग भेद एक बड़ी समस्या है ऐसे में हमे बच्चियों और महिलाओं के अधिकारों को घर से ही सुनिश्चित करना होगा। झाला ने मानवाधिकार की प्रक्रिया को बताते हुए कहा कि आम व्यक्ति के अधिकारों की रक्षा करने का जिम्मा विधि के विधार्थियों का है। इसमें अपील करने का बहुत ही सरल तरीका है, बहुत सी बार आयेाग के सदस्य अखबारों की सूचना से भी उस विषय पर संज्ञान ले लेता है।

अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रो. एस.एस. सारंगदेवोत ने कहा कि हमारे धार्मिक गंथों में भी मावाधिकारों की रक्षा की बात कही गयी है। उसी के अनुरूप 10 दिसम्बर 1948 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने विश्व मानवाधिकार घोषणा पत्र जारी कर पहली बार मानवों के अधिकारों के बारे में बात रखी थी। वर्ष 1950 में संयुक्त राष्ट्र ने हर वर्ष आज के दिन यह दिवस मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य किसी भी इंसान की जिंदगी, आजादी, बराबरी व सम्मान के अधिकारों के बारे में जागरूक करना और उन्हें अपना हक दिलाना है।

उन्होंने कहा, देश में लोगों के बीच नस्ल, रंग, लिंग, भाषा, धर्म, राजनीतिक या विचार, राष्ट्रीयता व सामाजिक, उत्तपति, सम्पत्ति, जन्म आदि के बारे में भेदभाव नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि शैक्षणिक पाठ्यक्रमों में मानवाधिकार से जुड़े अध्यायों को प्रमुखता से शामिल किया जाए। इसके जरिए नई पीढ़ी को मानवाधिकारों के प्रति सजग और संवेदनशील बनाया जा सके। महात्मा गांधी ने कहा था कि सामाजिक समरसता और लोकतान्त्रिक मूल्यों को बनाए रखने के लिए मानवाधिकारों का संरक्षण नितान्त आवश्यक है। दरअसल मानवाधिकार स्वतन्त्रता समानता एवं गरिमा के अधिकार है।

व्याख्यानमाला के दौरान महाविद्यालय द्वारा आयेाजित विभिन्न प्रतियोगिता में विजयी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। समारोह में सहायक कुल सचिव डाॅ. धमेन्द्र राजोरा, डाॅ. मीता चैधरी, डाॅ. सुरेन्द्र सिंह चुण्डावत, डाॅ. प्रतीक जांगिड, डाॅ. के.के. त्रिवेदी, भानुकुंवर सिंह, छत्रपाल सिंह, डाॅ. ज्ञानेश्वरी सिंह राठौड, डाॅ. रित्वी धाकड, अंजु कावडिया, डाॅ. लोकेन्द्र सिंह राठोड, चिराग दवे सहित अकादमिक सदस्य उपस्थित थे। संचालन डाॅ. विनिता व्यास ने किया।



ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Due to lack of awareness, common people are deprived of their rights - Jhala
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: due to lack of awareness, common people are deprived, of their rights, - jhala, udaipur, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, udaipur news, udaipur news in hindi, real time udaipur city news, real time news, udaipur news khas khabar, udaipur news in hindi
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

राजस्थान से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2024 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved