• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

करोड़ों के राजस्व और एनर्जी सेविंग के लिए अपनाएंगे विशेष फार्मूला

Will adopt special formula for crores of revenue and energy saving - Jaipur News in Hindi

जयपुर। प्रदेश के जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग में बिजली और राजस्व की बचत के लिए ‘पाॅजिटिव इंजीनियरिंग‘ का विशेष फार्मूला अपनाया जाएगा। राज्य में स्थित के 200 किलोवाट से ज्यादा लोड वाले पम्प हाऊसों के संचालन में सूझबूझ के साथ तकनीकी पहलुओं को अपनाते हुए बिजली और पैसे की बचत के इस सकारात्मक कदम से न केवल जलदाय विभाग को फायदा होगा बल्कि यह प्रदेश के विकास में भी अप्रत्यक्ष रूप से अपनी भागीदारी निभाएगा।

जलदाय मंत्री डा. बी. डी. कल्ला ने इसके बारे में जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश मेें विभाग के ज्यादा लोड वाले पम्पिंग स्टेशनों द्वारा विद्युत उपभोग के पैटर्न का विश्लेषण किया गया। इससे यह निष्कर्ष निकला कि कई जगह पानी की मोटर की विद्युत कम्पनियों को दी जाने वाली ‘काॅन्ट्रेक्ट डिमाण्ड‘ बिजली के वास्तविक उपभोग की तुलना में अधिक है। इस कारण विद्युत कम्पनियों के नियमों के अनुरूप जलदाय विभाग को अतिरिक्त राजस्व का भुगतान करना पड़ता है। इसके अलावा कई पम्पिंग स्टेशनों पर ‘हायर पावर फैक्टर‘ को भी मैंटेन किया जाना जरूरी है। इन दो पहलुओं पर खास फोकस करते हुए विभाग में ‘एनर्जी प्लानिंग एंड कंजर्वेशन‘ की पहल की गई है।

‘पावर फैक्टर इंसेंटिव‘ के लिए बनाई विस्तृत कार्ययोजना

डा. कल्ला ने बताया कि पम्प हाउसेज पर ‘काॅन्ट्रेक्ट डिमाण्ड‘ से कम बिजली के उपभोग तथा ‘हायर पावर फैक्टर‘ मैंटेन किए जाने की सूरत में विद्युत कम्पनियों द्वारा ‘पावर फैक्टर इंसेंटिव‘ दिए जाने का प्रावधान है। इसे देखते हुए विभाग द्वारा ऊर्जा की बचत की विस्तृत कार्ययोजना बनाई गई है तथा सभी अभियंताओं को इस बारे में निर्देश जारी किए गए हैं। इसके तहत इंजीनियर्स को पम्प हाऊस के विद्युत कनेक्षन के लिए ‘काॅन्ट्रेक्ट डिमाण्ड‘ उस क्षमता तक की ही लेने को कहा गया है, जिससे बिजली की वास्तविक खपत उसकी (काॅन्ट्रेक्ट डिमाण्ड) तुलना में 100 प्रतिषत से 75 प्रतिशत के बीच रहे। ऐसा करने पर करोड़ों के राजस्व तथा बिजली की भी बचत हो सकेगी। इसके साथ ही आवश्यक क्षमता के ‘पावर कैपेसिटर्स‘ लगाकर ‘पावर फैक्टर‘ में सुधार करने के लिए भी निर्देश जारी किए गए हैं।

प्रमुख शासन सचिव के स्तर से होगी माॅनिटरिंग

जलदाय मंत्री ने बताया कि विभाग के सभी पम्पिंग स्टेशनों के लिए इंजीनियर्स द्वारा इन दो सुधारात्मक कदमों के लिए फील्ड में होने वाली प्रगति की प्रमुख शासन सचिव संदीप वर्मा के स्तर से माॅनिटरिंग की जाएगी। जयपुर के मुख्य अभियंता (स्पेशल प्रोजेक्ट्स) को इस कार्य के लिए नोडल आॅफिसर बनाया गया है। सभी अतिरिक्त मुख्य अभियंताओं को पम्पिंग स्टेशस पर विद्युत उपभोग का डाटा निर्धारित फार्मेट में भेजने के निर्देश दिए गए है। इसके आधार पर फील्ड में कार्यरत इंजीनियर्स से सतत रूप से आवश्यक जानकारी का आदान-प्रदान किया जाएगा। उनको राज्य स्तर से मार्गदर्शन एवं प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

‘एनर्जी प्लानिंग एंड कंजर्वेशन‘ का नया सूत्र

जलदाय विभाग के प्रमुख शासन सचिव संदीप वर्मा ने बताया कि बीसलपुर-अजमेर वाटर सप्लाई प्रोजेक्ट की एक ‘केस स्टडी‘ के उदाहरण से ‘एनर्जी प्लानिंग एंड कंजर्वेशन‘ के इस सूत्र को बेहतर तरीके से समझा जा सकता है। उन्होंने बताया कि बीसलपुर-अजमेर परियोजना में गत तीन वर्षों में मात्र 21.56 लाख रुपये, ‘पावर कैपेसिटर्स‘, ‘फ्यूजेज‘ तथा ‘एचटी केबल लगाने के लिए खर्च किए गए। इसकी तुलना में 312.11 लाख रुपये के ‘पावर फैक्टर इंसेंटिव‘ का विभाग को सीधा फायदा मिला।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2018 में मिले ‘इंसेंटिव‘ में पिछले दो वर्षों की तुलना में कमी दर्ज हुई। बीसलपुर बांध में पानी की कमी की वजह से प्रोजेक्ट में कम विद्युत का उपभोग इसका प्रमुख कारण था।ऐसे समझे ‘पावर फैक्टर‘ और ‘इंसेंटिव‘ का गणितश्री वर्मा ने बताया कि विद्युत कम्पनीज के नियमों के अनुरूप ‘पावर फैक्टर‘ को 0.90 के स्तर पर मैंटेन किया जाना जरूरी है। इस स्तर से नीचे उपभोक्ताओं को प्रति .01 ‘पावर फैक्टर‘ के लिए एक प्रतिषत की पेनल्टी भुगतनी पड़ती है।

‘पावर फैक्टर‘ 0.90 से 0.95 के मध्य होने पर किसी प्रकार का ‘इंसेंटिव‘ नहीं मिलता, मगर 0.95 से ऊपर होने पर इंसेंटिव देय है। पहले विद्युत कम्पनीज द्वारा 0.95 से ऊपर प्रति .01 ‘पावर फैक्टर‘ के लिए एक प्रतिशत ‘इंसेंटिव‘ दिया जाता था, लेकिन जनवरी 2018 से 0.95 से 0.97 की रेंज में .01 प्रतिषत ‘पावर फैक्टर‘ सुधार के लिए 0.5 प्रतिषत तथा इससे ऊपर प्रति .01 यूनिट के लिए एक प्रतिशत का इंसेटिव दिया जा रहा है।इंजीनियर्स को ‘मोटिवेट‘ कर साधेंगे लक्ष्यप्रमुख शासन सचिव ने बताया कि विभाग के पम्पिंग स्टेशस पर 200 केवीए और इससे ऊपर की क्षमता के कनैक्षंस के बारे में फील्ड इंजीनियर्स को अगस्त 2018 से जुलाई 2019 तक का डेटा चीफ इंजीनियर (स्पेशल प्रोजेक्ट) को भिजवाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके विश्लेषण के बाद सभी पहलुओं को ध्यान रखते हुए ‘काॅन्ट्रेक्ट डिमाण्ड‘ में कमी और ‘पावर फैक्टर‘ में सुधार के लिए टाईमलाइन के आधार पर कार्य किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इंजीनियर्स को सही जानकारी एवं इच्छा शक्ति के साथ विभाग की इस पहल को लागू करने के लिए ‘मोटिवेट‘ किया जाएगा ताकि सभी मिलकर एक टीम के रूप में सकारात्मक ऊर्जा से राजस्व एवं एनर्जी सेविंग के इस लक्ष्य को साध सके।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Will adopt special formula for crores of revenue and energy saving
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: public health engineering department, crores of revenue, energy saving, special formula, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, jaipur news, jaipur news in hindi, real time jaipur city news, real time news, jaipur news khas khabar, jaipur news in hindi
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

राजस्थान से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2019 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved