• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

गूगल कोड—इन के फाइनलिस्ट रहे जयपुर के अश्निध खंडेलवाल

the finalist of Google Code-In - Jaipur News in Hindi

जयपुर। जयपुर के 14 वर्षीय यंग एप डिजाइनर और कोडर अश्निध खण्डेलवाल को गूगल की ओर से आयोजित की गई 'गूगल कोड—इन 2018' प्रतियोगिता का फाइनलिस्ट घोषित किया गया है। टीनएजर्स के लिए आयोजित की जाने वाली इस अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में 77 देशों के हजारों विद्यार्थियों ने भाग लिया था। गूगल की ओर से सोमवार देर रात जारी आधिकारिक पत्र के अनुसार अश्निध को यह सम्मान ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर में उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए दिया गया है।

तेरह से 17 वर्ष के टीनएजर्स के लिए यह अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता पिछले वर्ष 23 अक्टूबर से 12 दिसम्बर तक आयोजित की गई थी। लगभग 51 दिन तक चली इस प्रतियोगिता में पार्टिसिपेंट्स को कोडिंग, डिजाइन, क्वालिटी एश्योरेंस, रिसर्च और आउटरीच श्रेणियों में कई तरह के कार्य करने का टास्क दिया गया था। अश्निध ने बताया कि उन्होंने इस अवधि में दिवाली और स्कूल एग्जाम होने के बावजूद 25 टास्क पूरे किए और मेंटर्स ने उनका काफी उत्साहवर्धन किया। उन्होंने बताया कि टास्क पूरे करने के लिए अक्सर उन्हें देर रात तक जागना पड़ता था, क्योंकि उनके मेंटर्स अमरीकी थे और वहां की टाइम जोन के अनुसार ही वे उपलब्ध रहते थे।

भारतीय विद्या भवन विद्याश्रम, प्रताप नगर में नाइंथ स्टेंडर्ड में अध्ययनरत अश्निध अपनी इस उपलब्धि का श्रेय अपने माता—पिता के साथ विद्यालय के प्राचार्य दीपक दुआ को देते हैं। वे कोडिंग को अपना पैशन मानते हैं और विभिन्न अंतरराष्ट्रीय ओपन सोर्स कम्यूनिटीज से जुड़े हैं और उन्हें अपनी स्वैच्छिक सेवाएं दे रहे हैं।

बना चुके हैं 'मोस्ट इनोवेटिव एप'

उल्लेखनीय है कि अश्निध से पिछले वर्ष तेरह साल की उम्र में एक मोबाइल एप 'रेस्क्यू एनिमल हैल्पलाइन' बनाया था, जिसे अमरीका के मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी ने 'मोस्ट इनोवेटिव एप' घोषित किया था। इस एप की मदद से किसी भी एनिमल रेस्क्यू सेंटर से एक टैप पर कॉन्टेक्ट किया जा सकता है और घायल पशु—पक्षी को बचाया जा सकता है।
अब लोकेशन बेस्ड एप

अश्निध बताते हैं कि उन्हें कोडिंग से शुरू से ही लगाव है। वे अब एक ऐसा एप तैयार कर रहे हैं जो सभी नागरिकों, विशेषकर बच्चों और बुजुर्गों की मदद करेगा। इस लोकेशन बेस्ड एप के माध्यम से वे आसानी से एक टैप से नजदीकी अस्पताल, एंबुलेंस, पुलिस स्टेशन, फायर स्टेशन, एनिमल रेस्क्यू सेंटर, बैंक, एटीएम आदि को लोकेट कर सकेंगे या सीधे ही उनसे कॉन्टेक्ट कर सकेंगे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-the finalist of Google Code-In
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: google code-in, jaipur news, rajasthan hindi news, google code-in 2018\r\n, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, jaipur news, jaipur news in hindi, real time jaipur city news, real time news, jaipur news khas khabar, jaipur news in hindi
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

राजस्थान से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2019 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved