• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

प्रतिभागियों ने ऑनलाईन सेशंन में सीखा ऑयल पेस्टल और मांडणा आर्ट

Participants learned oil pastel and Mandana art in online session - Jaipur News in Hindi

जयपुर। जवाहर कला केंद्र (जेकेके) के 'ऑनलाइन लर्निंग - चिल्ड्रन्स समर फेस्टिवल' में विजुअल आर्ट्स सेशन के तहत कला प्रेमियों ने दिल्ली के कलाकार तीर्थांकर बिस्वास से 'ऑयल पेस्टल वर्क ऑन पेपर' की कला सीखी। सेशन में ऑयल पेस्टल से चित्र बनाने की स्टेप-बाय-स्टेप तकनीक सिखाई गई। इसके बाद, विजुअल आर्ट्स ऑनलाइन लर्निंग सेशन के तहत भीलवाड़ा निवासी विद्या देवी सोनी ने 'मांडणा आर्ट' सेशन का संचालन किया। इस सेशन में विभिन्न डिजाइंस बनाने एवं इस कला के लिए आवश्यक उपयोगी सामग्री के बारे में भी सिखाया गया।
कलाकार तीर्थांकर बिस्वास ने किया 'ऑयल पेस्टल वर्क ऑन पेपर' सेशन का संचालन

'ऑयल पेस्टल वर्क ऑन पेपर' सेशन में कलाकार तीर्थांकर बिस्वास ने प्रतिभागियों को विभिन्न पेस्टल, एप्लीकेशन तकनीक, टोन, कलर, ड्रॉइंग के सहित अन्य महत्त्वपूर्ण तथ्यों के बारे में समझाया। कलाकार ने पेस्टल पेपर पर पेस्टल के गहरे शेड (ब्लैक) से ड्रॉईंग बनाना शुरू किया। उन्होंने समझाया कि पेस्टल पेपर पर अन्य पेपर के मुकाबले ऑयल पेस्टल शेड्स अच्छे से ठहरते हैं। पेस्टल दोनों हार्ड और सॉफ्ट फॉर्म में उपलब्ध होते हैं। हार्ड पेस्टल्स को चॉक भी कहा जाता है। आर्टवर्क के पूरा होने पर फिक्सेटिव की आवश्यकता होती है। यह रिफ्लेक्टिव रंगों के प्रभाव को कम कर देता है। अधिकांश कलाकार वर्तमान में ऑयल पेस्टल का उपयोग करना पसंद करते हैं, जिसमें वैक्स होता है और वांछित रंग बनाने के लिए इनकी आसानी से लेयरिंग और ब्लेंडिंग की जा सकती है।

कलाकार ने आगे बताया कि पोर्ट्रेट में कई रंग हो सकते हैं जैसे कि बालों में काले, नीले और सफेद रंग हो होते हैं। इसी प्रकार आईब्रो को वास्तविक स्वरूप देने के लिए हरे रंग का उपयोग किया जा सकता है और स्किन के लिए लाल रंग का टच देना होता है। पेंटिंग में शेड्स को स्मूथ दिखाने के लिए कपड़े या उंगलियों का उपयोग कर रंगों की ब्लेंडिंग की जाती है। कलाकार ने सुझाव दिया कि चश्मा, ज्वेलरी और मफलर जैसी एक्सेसरीज को कैरेक्टर तैयार होने के बाद बनाना चाहिए और नए कलाकारों को चाहिए कि वो अभ्यास के लिए अपने परिवार के सदस्यों का स्कैच बनाए।

विद्या देवी सोनी ने 'मांडणा' सेशन का किया संचालन

विजुअल आर्ट्स सेशन के तहत मंगलवार के दूसरे सेशन में कलाकार विद्या देवी सोनी ने मांडणा आर्ट की बारीकियां सिखाई। कलाकार ने आरंभ मै 'मांडणा' कला की पारंपरिक प्रक्रिया समझाई। उन्होंने बताया कि दीवार अथवा जमीन पर मिट्टी का लेप लगाया जाता है, जिसमें गाय का गोबर और पानी भी मिला होता है। इसके बाद इसे सूखने के लिए छोड़ दिया जाता है। इसके सूखने के बाद खडिया (चॉक) और पानी के मिश्रण से इस पर डिजाइन बनाई जाती है। मांडणा आर्ट को दीवार, दरवाजे, पूजा के स्थान आदि जगहों पर बनाया जा सकता है। इन्हें गणगौर, दीवाली, होली, दुर्गा अष्टमी जैसे त्योहारों के दौरान भी बनाया जाता है। राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों में 'मांडणा' के अलग-अलग डिज़ाइन बनाए जाते हैं। किसी भी शुभ अवसर जैसे पूजा, जन्म या विवाह समारोह में भी 'मांडणा' बनाया जाता है।

सेशंस के दौरान कलाकार ने 'मेवाड़ मांडणा' बनाना सिखाया, जिसे खासकर पूजा के स्थान पर बनाया जाता है। उन्होंने एक मार्कर का उपयोग करके रूप रेखा तैयार की और एक पतले ब्रश और खड़िया (चॉक) से डिजाइन तैयार की। इसके बाद, उन्होंने 'मांडणा' में विभिन्न डिजाइन भरने शुरू किए, जैसे चैक्स, लाइंस, फूल, आदि। कलाकार ने बताया कि 'मांडणा' आर्ट का आमतौर पर आकार होता है। इसे और अधिक आकर्षक बनाने के लिए इन डिजाइन को छोटे फूलों एवं सितारों से सजा सकते हैं।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Participants learned oil pastel and Mandana art in online session
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: jkk, online session, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, jaipur news, jaipur news in hindi, real time jaipur city news, real time news, jaipur news khas khabar, jaipur news in hindi
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

राजस्थान से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2020 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved