• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

देर रात चले कवि सम्मेलन में श्रोताओं ने जमकर ठहाके लगाए


जयपुर। ‘उजाले भर दे जीवन में, उमंगे भर दे हर मन में, धो डाले गुनाहों को, मिटा दे मन की आहों को दिखा दे नेक राहों को, ये निर्मल नीर गंगा का।’ जाने माने कवि अब्दुल जब्बार की कविताओं गंगा की इन खूबियों को कविताओं के जरिए बताया। सांगानेर श्योपुर स्थित चांदनी गार्डन में रविवार देर रात चले कवि सम्मेलन में कवियों ने अपनी रचनाओं से लोगों को गुदगुदाया।

साथ ही देश के वर्तमान हालात पर चुटीले अंदाज में अपनी कविताएं पेश की। सम्मेलन का आयोजन हिंदुस्तान मीडिया ट्रस्ट, महात्मा गांधी शिक्षा समिति, जयपुर की ओर से किया गया था। खासखबर डाट काम इस कवि सम्मेलन का मीडिया पार्टनर था। कवि सम्मेलन में नाथद्वारा के कवि गिरीश विद्रोही ने कविता, अपने राष्ट्र की गौरव गरिमा का गान नहीं रूकने देना, शीश अगर मां का झुकता हो, अपना शीश कटा देना रे, जाति धर्म बंट जाए देश नहीं बंटने देना रे, सुना कर श्रोताओं की खूब तालियां बटोरी।






ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-In the late night the poets, the audience shouted laughingly
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: rajasthan, jaipur, kavi sammelan, audience, shouted, laughingly, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, jaipur news, jaipur news in hindi, real time jaipur city news, real time news, jaipur news khas khabar, jaipur news in hindi
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

राजस्थान से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved