• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

गहलोत सरकार ने मानी फोन टैपिंग की बात, भाजपा ने किया प्रहार

Gehlot govt admits phone tapping during political crisis - Jaipur News in Hindi

जयपुर। राजस्थान में अशोक गहलोत की सरकार द्वारा पिछले साल जुलाई के राजनीतिक संकट के दौरान फोन टैपिंग की बात स्वीकार करने के बाद भाजपा ने सोमवार को प्रदेश सरकार पर तीखा हमला किया। विपक्षी पार्टी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर 'अपनी कुर्सी बचाने के लिए सभी सीमाओं को पार करने और कानूनों को दरकिनार करने' का आरोप लगाया।

राजस्थान में एक केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेताओं के बीच फोन पर हुई बातचीत के लीक होने के आठ महीने बाद राज्य में गहलोत की सरकार ने हाल ही में पुष्टि की कि फोन वास्तव में टैप किए गए थे।

अगस्त, 2020 में सदन के सत्र के दौरान पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में राजस्थान विधानसभा की वेबसाइट पर यह पुष्टि पोस्ट की गई थी।

भाजपा विधायक कालीचरण सराफ ने अपने सवाल में कहा, "क्या यह सच है कि फोन टैपिंग के मामले पिछले दिनों में किए गए थे? यदि हां, तो किस कानून के तहत और किसके आदेश पर? सदन के पटल पर विवरण रखें।"

कई महीनों के बाद जवाब में सरकार ने कहा, "सार्वजनिक सुरक्षा या सार्वजनिक व्यवस्था के हित में, और किसी अपराध की घटना को रोकने के लिए, जिससे सार्वजनिक सुरक्षा या सार्वजनिक व्यवस्था को खतरा हो सकता है, टेलीफोन टैप किए जाते हैं। लेकिन, भारतीय टेलीग्राफ अधिनियम, 1885 की धारा 5 (2) और भारतीय टेलीग्राफ (संशोधन) नियम, 2007 की धारा 419 (ए), सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 69 के प्रावधानों के तहत एक सक्षम अधिकारी द्वारा अनुमोदन मिलने के बाद फोन इंटरसेप्ट किए जाते हैं।"

"राजस्थान पुलिस द्वारा उपरोक्त प्रावधान के तहत सक्षम अधिकारी से अनुमति प्राप्त करने के बाद ही टेलीफोन इंटरसेप्ट किया गया है।"

इसने यह भी कहा कि नियम 419 (ए) और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 की धारा 69 में वर्णित प्रावधान के अनुसार सक्षम प्राधिकारी की मंजूरी दी गई है।

उत्तर में बताया गया है कि राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में प्रतिपदा पर लिए गए मामलों की समीक्षा की जाती है। नवंबर 2020 तक के सभी मामलों की समीक्षा की गई है।

हालांकि, इंटरसेप्ट किए गए टेलीफोन नंबरों के बारे में विवरण, और जिस समय के लिए उन्हें निगरानी में रखा गया था, वह साझा नहीं किया गया है और इसका उत्तर उसके दृष्टिकोण में सीमित है।

इस बीच, राज्य भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया ने अपने ट्वीट में अशोक गहलोत पर प्रहार किया और उन पर अपनी ही पार्टी के लोगों के खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगाया।

अपने दो ट्वीट में उन्होंने गहलोत पर गांधीवाद का झूठा मुखौटा पहनने और लोकतंत्र के लिए मगरमच्छ के आंसू बहाने का भी आरोप लगाया।

अपने दूसरे ट्वीट में उन्होंने मीडिया कटिंग को साझा किया और कहा कि "सरकार ने विधानसभा के सवाल के जवाब में इसे स्वीकार कर लिया है। अब मारवाड़ के गांधी क्या जवाब देंगे?"

इस बीच, सराफ ने कहा कि उन्हें राज्य सरकार से लिखित जवाब मिलना बाकी है। (आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Gehlot govt admits phone tapping during political crisis
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: gehlot govt admits phone tapping during political crisis, ashok gehlot, phone tapping, political crisis, bjp, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, jaipur news, jaipur news in hindi, real time jaipur city news, real time news, jaipur news khas khabar, jaipur news in hindi
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

राजस्थान से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2021 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved