• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन में पहुंचे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कहा- इस विभाजनकारी कानून को वापस ले केन्द्र सरकार

Chief Minister Ashok Gehlot reached the protest against CAA-NRC, said- the central government should withdraw this divisive law - Jaipur News in Hindi

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि देश के आम लोगों की भावनाओं का सम्मान करते हुए केन्द्र सरकार को हाल में बनाए गए नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) तथा राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) की प्रक्रिया पर रोक लगानी चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें देश में ऐसा माहौल बनाना चाहिए कि सभी धर्मों और जातियों के लोग शांति, सद्भाव और प्रेम के साथ मिल-जुलकर रहें।
गहलोत ने शुक्रवार को जयपुर के शहीद स्मारक पर सीएए, एनपीआर तथा राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध में चल रहे अनिश्चितकालीन धरने में शामिल लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि देशभर में 300-400 जगह पर केन्द्र सरकार के विभाजनकारी निर्णयों के विरूद्ध धरने-प्रदर्शन और आंदोलन चल रहे हैं। अधिकांश राज्यों के मुख्यमंत्री कह चुके हैं कि सीएए और एनआरसी को लागू नहीं करेंगे। ऐसे में, केन्द्र सरकार को चाहिए कि वह स्वयं ही संविधान की मूल भावना को नष्ट करने वाले कानून और इससे जुड़ी प्रक्रियाओं को वापस ले लेंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज देश में अराजकता और डर की स्थिति बनी हुई है। जनता भली-भांति समझती है कि सीएए और एनआरसी देश के संविधान के खिलाफ हैं। उन्होंने कहा कि एनआरसी के लिए 76000 करोड़ रुपए खर्च करना और सारे देश की जनता को लाइनों में खड़ा करने का कोई अर्थ नहीं है। असम में एनआरसी की प्रक्रिया के दौरान गरीब लोगों को, जिसमें सभी धर्म-जातियों के लोग शामिल हैं, नागरिकता सूचियों में नाम दर्ज कराने में कितनी तकलीफें झेलनी पड़ी हैं। उन्होंने कहा कि वहां एनआरसी के लिए 1600 करोड़ रुपए खर्च करने के बाद अब राज्य सरकार इसे लागू नहीं करना चाहती। उन्होंने कहा कि जो कानून लागू नहीं हो सकता, उसके लिए कवायद क्यों की जा रही है।

गहलोत ने धरने में शामिल लोगों को आश्वस्त किया कि राज्य सरकार नागरिकों के बीच भेद करने वाले कानून सीएए और एनआरसी को लागू होने से रोकने के लिए हर आवश्यक कदम उठाएगी। उन्होंने कहा कि इस विषय में केन्द्र सरकार को उचित जवाब दिया जाएगा। यह सही है कि नरेन्द्र मोदी देश के चुने हुए प्रधानमंत्री हैं, लेकिन राज्यों में भी जनता के चुने हुए मुख्यमंत्री हैं। यदि राज्य विधानसभाओं के सदस्यों ने संकल्प पारित कर इन विभाजनकारी कानूनों के बारे में जनता की भावना से केन्द्र सरकार को अवगत कराया है, तो उन्हें इन पर पुनर्विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में जनता का फैसला सर्वोपरि होता है और हमारे देश की जनता कब अपना निर्णय सुना दे, इसकी किसी को कानों-कान खबर नहीं होती।

गहलोत ने जयपुर के ऐतिहासिक शांति मार्च में शामिल होने के लिए लोगों को धन्यवाद देते हुए कहा कि 4-5 लाख लोग राष्ट्रीय तिरंगा झण्डा हाथ में लेकर मार्च में शामिल हुए और कोई भी नारा नहीं लगा। उन्होंने कहा कि इस आयोजन के दौरान राजस्थान की जनता ने पूरे देश को यह संदेश दिया है कि हम सब हिन्दुस्तानी हैं और राष्ट्रभक्त हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार में बैठे लोगों को यह समझना चाहिए कि जनभावना का आदर करके ही शासन किया जा सकता है।

इस दौरान सूचना एवं जनसम्पर्क राज्य मंत्री सुभाष गर्ग, विधायक रफीक खान और अमीन कागजी, आरटीडीसी के पूर्व चेयरमैन राजीव अरोड़ा, अन्य जनप्रतिनिधि, गणमान्यजन एवं बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी महिलाएं एवं पुरूष मौजूद थे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Chief Minister Ashok Gehlot reached the protest against CAA-NRC, said- the central government should withdraw this divisive law
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: rajasthan, jaipur, chief minister ashok gehlot, citizenship amendment act, caa, national population register, npr, opposition of caa, state government, prime minister narendra modi, jaipur news, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, jaipur news, jaipur news in hindi, real time jaipur city news, real time news, jaipur news khas khabar, jaipur news in hindi
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

राजस्थान से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2020 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved