• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

पंजाब के सभी सरकारी संस्थानों के साईन बोर्ड और सडक़ों के मील पत्थर पंजाबी में लिखे जाना अब अनिवार्य: तृप्त बाजवा

Trupt Rajinder Singh Bajwa said, It is now compulsory to write in Punjabi the milestones of the sign boards and roads of all government institutions of Punjab - Punjab-Chandigarh News in Hindi

चंडीगढ़। पंजाब सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय मातृ भाषा दिवस के अवसर पर अहम फ़ैसला लागू करते हुए राज्य के सभी सरकारी और अर्ध-सरकारी संस्थानों, बोर्डों, निगमों के साईन बोर्डों और सडक़ों के मील पत्थर गुरमुखी लिपि के द्वारा पंजाबी भाषा में लिखना लाजि़मी कर दिया है। इस फ़ैसले को लागू करने सम्बन्धी उच्च शिक्षा विभाग द्वारा पत्र जारी कर दिया गया है।

पंजाब के उच्च शिक्षा और भाषा मंत्री तृप्त रजिन्दर सिंह बाजवा ने इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए बताया कि उनके द्वारा विधानसभा के पिछले सेशन में दिए गए आश्वासन के अनुसार विभाग ने पंजाब राज्य भाषा एक्ट-1967 की धारा 4 अधीन मिले अधिकारों का प्रयोग करते हुए पंजाब सरकार ने यह हुक्म जारी कर दिए हैं कि सभी साईन बोर्डों और मील पत्थरों पर पूरी जानकारी पंजाबी भाषा (गुरमुखी लिपि) में लिखी जानी ज़रूरी होगी। उन्होंने बताया कि यदि किसी अन्य भाषा में जानकारी दी जानी ज़रूरी हो तो यह पंजाबी भाषा से नीचे और कम जगह पर लिखी जायेगी।

उच्च शिक्षा और भाषा विभाग के सचिव राहुल भंडारी के हस्ताक्षर अधीन पंजाब राज्य के समूह विभागों के मुखियों, डिवीजनों के कमिश्नरों, जिलों के डिप्टी कमिश्नरों, जि़ला और सैशन जजों, विधानसभा के सचिव, पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार और बोर्डों और निगमों के चेयरमैनों को लिखे गए एक पत्र में इन अधिकारियों को अपने अपने क्षेत्रों में इन आदेशों को यथावत लागू कराने के लिए कहा गया है।

उच्च शिक्षा मंत्री ने बताया कि पंजाब राज्य के निजी व्यापारिक, औद्योगिक और शैक्षिक संस्थानों के साईन बोर्ड पंजाबी में लिखे जाने के लिए एक अलग नोटिफिकेशन पंजाब सरकार के श्रम विभाग द्वारा जारी किया जाना है। उन्होंने बताया कि उच्च शिक्षा विभाग ने इस सम्बन्धी प्राथमिक कार्यवाही करके श्रम विभाग को यह नोटिफिकेशन जारी करने के लिए लिख दिया गया है और उनको उम्मीद है कि यह नोटिफिकेशन भी जल्द ही जारी हो जायेगा।

यहां यह वर्णन योग्य है कि गुरु नानक देवजी के 550वें प्रकाश पर्व सम्बन्धी बुलाए गए पंजाब विधानसभा के विशेष सत्र के दौरान उठी मांग के जवाब में उच्च शिक्षा मंत्री तृप्त रजिन्दर सिंह बाजवा ने सदन में भरोसा दिया था कि पंजाब के सभी सरकारी और ग़ैर सरकारी विभागों के साईन बोर्ड पंजाबी में लिखे जाने को अनिवार्य किया जायेगा।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Trupt Rajinder Singh Bajwa said, It is now compulsory to write in Punjabi the milestones of the sign boards and roads of all government institutions of Punjab
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: punjab, government of punjab, international mother language day, minister of higher education and language trupt rajinder singh bajwa, trupt rajinder singh bajwa, government and semi-government institutions, boards, sign boards of corporations, road milestones, gurmukhi script, secretary rahul bhandari, punjab news, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, punjab-chandigarh news, punjab-chandigarh news in hindi, real time punjab-chandigarh city news, real time news, punjab-chandigarh news khas khabar, punjab-chandigarh news in hindi
Khaskhabar Punjab Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

पंजाब से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2020 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved