• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

महिला सुरक्षा का अभाव शर्म की बात : मोहन भागवत

Lack of women safety is a shame: Mohan Bhagwat - Nagpur News in Hindi

नागपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को महिला सुरक्षा के अभाव पर खेद प्रकट करते हुए कहा कि 'यह एक शर्म की बात' है। उन्होंने जीवन के सभी क्षेत्रों में महिलाओं के लिए समानता और समान 'अवसरों' का आह्वान किया। भागवत ने एक कड़े संदेश में कहा, "लक्ष्मण को सीता के आभूषण पहचानने के लिए कहा गया था, जिसके जवाब में लक्ष्मण ने कहा कि वह केवल सीता माता के पैरों के आभूषण को पहचानते हैं, क्योंकि उन्होंने कभी उन्हें नजर उठाकर नहीं देखा।"

उन्होंने कहा, "इस तरह की परंपरा के साथ, यह शर्म की बात है कि हमारी महिलाएं न तो घर के अंदर सुरक्षित हैं और न ही बाहर। यह कैसे हो सकता है कि हमारे ऐसे होने के बावजूद महिलाएं असुरक्षित हैं?"

भागवत ने महिला सशक्तिकरण का भी आह्वान किया। उन्होंने कहा, "महिलाओं को परिवार चलाने के साथ-साथ देश चलाने में भी अपनी भूमिका में समान रूप से पेश आने की जरूरत है।"

आरएसएस प्रमुख ने कहा, "वे ऐसा कर सकती हैं। बस उन्हें मौका, स्वतंत्रता और थोड़ी मदद दें। उनका रास्ता ना रोकें।"

इससे पहले नई दिल्ली में आरएसएस से जुड़े ²ष्टि स्त्री अध्ययन प्रबोधन केंद्र(डीएसएपीके) द्वारा महिलाओं पर किए गए अध्ययन को केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण और भागवत द्वारा जारी किया गया।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Lack of women safety is a shame: Mohan Bhagwat
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: rss chief mohan bhagwat, lack of female security, regret, shame, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, महिला सुरक्षा के अभाव, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, nagpur news, nagpur news in hindi, real time nagpur city news, real time news, nagpur news khas khabar, nagpur news in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2019 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved