• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

पटाखों के कारण होने वाले प्रदूषण की समस्या को लेकर दिशा-निर्देश यहां पढ़ें

Read the guidelines for the problem of pollution caused by firecrackers - Chandigarh News in Hindi

चंडीगढ़ । भारत के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा पारित निदेर्शों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए हरियाणा सरकार ने प्रदेश में पटाखों के कारण होने वाले प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए कई निर्देश जारी किए हैं।
एक सरकारी प्रवक्ता ने यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों या परामर्शों के अनुसार केवल कम धुंआ फैलाने वाले और ग्रीन पटाखों के निर्माण और बेचे जाने की अनुमति होगी, जिसके फलस्वरूप ऐसे पटाखों के अलावा अन्य पटाखों के निर्माण एवं बिक्री पर प्रतिबंध रहेगा।
उन्होंने कहा कि पटाखे की लडिय़ों के निर्माण, बिक्री और इस्तेमाल पर भी प्रतिबंध लगाया गया है क्योंकि इनसे बड़े पैमाने पर वायु एवं ध्वनि प्रदूषण होने के अतिरिक्त ठोस कचरे की समस्याएं भी होती हैं। पटाखों की बिक्री केवल लाइसेंस प्राप्त व्यापारियों के माध्यम से होनी चाहिए और यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि ये लाइसेंस प्राप्त व्यापारी केवल अनुज्ञेय पटाखों की ही बिक्री कर रहे हों।
फ्लिप्कार्ट, अमेजॉन सहित अन्य कोई भी ई-कॉमर्स वेबसाइट पटाखों का कोई भी ऑनलाइन आर्डर स्वीकार नहीं करेंगी और ऑनलाइन बिक्री को प्रभावित नहीं करेंगी। उन्होंने कहा कि ऐसी किसी भी ई-कॉमर्स कंपनी द्वारा पटाखों की ऑनलाइन बिक्री किए जाने को अदालत की अवमानना माना जाएगा और इस के लिए अदालत मौद्रिक दंड के आदेश भी दे सकती है।
उन्होंने कहा कि आतिशबाजी में बेरियम नमक का इस्तेमाल प्रतिबंधित है। यहां तक कि ऐसे पटाखे जिन्हें पहले से ही उत्पादित किया जा चुका है और वे दी गई शर्तों को पूरा नहीं करते हैं, उन्हें दिल्ली और एनसीआर में बेचे जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
दिवाली और गुरुपर्व आदि जैसे किसी अन्य त्यौहार के दिन, जब आम तौर पर ऐसी आतिशबाजी होती है, तो केवल सायं 8.00 बजे से 10.00 बजे तक ही पटाखे चलाने की अनुमति होगी। क्रिसमस और नव वर्ष की पूर्व संध्या पर, जब ऐसी आतिशबाजी मध्यरात्रि के आसपास 12.00 बजे शुरू होती है, तो यह केवल रात्रि 11.55 बजे से 12.30 बजे तक होगी।
उन्होंने कहा कि समुदायिक आतिशबाजी (दिवाली और अन्य दिए गए त्योहारों आदि के लिए) की अनुमति केवल वहीं होगी, जहां ऐसा किया जाता है। इस उद्देश्य के लिए संबंधित अधिकारियों द्वारा संबंधित क्षेत्र या क्षेत्रों की पूर्व पहचान एवं पूर्व निर्धारण किया जाएगा। दिवाली के उद्देश्य के लिए अब नामित क्षेत्रों को अन्य अवसरों या त्यौहारों पर सामुदायिक आतिशबाजी के लिए भी मान्य माना जाएगा। यहां तक कि विवाह और अन्य अवसरों के लिए भी केवल बेहतर पटाखों और ग्रीन पटाखों की बिक्री की अनुमति है।
सभी अधिकारी या कर्मचारी, विशेष रूप से पुलिस को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आतिशबाजी केवल निर्धारित समय के दौरान और निर्धारित स्थानों पर हो। उन्हें यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि प्रतिबंधित पटाखों की बिक्री न हो। यदि कोई उल्लंघन पाया जाता है, तो क्षेत्र के संबंधित पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) को इस तरह के उल्लंघन के लिए व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी माना जाएगा और यह न्यायालय की अवमानना भी होगा, जिसके लिए एसएचओ के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।
राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड या राज्य की प्रदूषण नियंत्रण समितियों को पटाखे चलाने के सम्बन्ध में सीपीसीबी द्वारा प्रस्तावित अल्पकालिक परिवेश वायु गुणवत्ता मानदंड मूल्य (एएक्यूसीवी) के खिलाफ नियामक मानकों के लिए मानदण्ड नामत: एल्यूमिनियम, बरियम, आयरन के लिए अपने-अपने शहरों में अल्पकालिक निगरानी करनी चाहिए। इससे पटाखों को जलाने से होने वाले प्रदूषण के आंकड़े एकत्रित करने में मदद मिलेगी और पटाखों के निर्माण में इस्तेमाल होने वाले एल्यूमीनियम, बरियम और आयरन को विनियमित करने और गुणवत्ता नियंत्रण में मदद मिलेगी।
सभी संबंधित अधिकारी सर्वोच्च न्यायालय के इन आदेशों का अक्षरश: अनुपालन सुनिश्चित करेंगे। इस संबंधित में किसी भी प्रकार की चूक को गम्भीरता से लिया जाएगा और दोषी अधिकारियों या कर्मचारियों के विरूद्ध कानून के अनुसार कार्यवाही की जाएगी।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Read the guidelines for the problem of pollution caused by firecrackers
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: supreme court of india, haryana news, haryana hindi news, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, chandigarh news, chandigarh news in hindi, real time chandigarh city news, real time news, chandigarh news khas khabar, chandigarh news in hindi
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

हरियाणा से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved