• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

गवाह को ‘हिरासत में यातना’, सुप्रीम कोर्ट ने किया राज्य से जवाब-तलब

नई दिल्ली। सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को जम्मू एवं कश्मीर सरकार से तालिब हुसैन की कथित रूप से ‘हिरासत में यातना’ पर एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर जवाब मांगा। तालिब हुसैन, कठुआ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या की पीडि़ता के लिए न्याय मांगने वाले आंदोलन का एक प्रमुख सदस्य हैं।

हुसैन को राज्य पुलिस ने उनके खिलाफ कथित तौर पर दुष्कर्म के आरोप वाली एक प्राथमिकी के मद्देनजर गिरफ्तार किया था। याचिकाकर्ता हुसैन के चचेरे भाई ने आरोप लगाया है कि कठुआ मामले की आठ साल की पीडि़ता के समर्थन में अभियान चलाने के लिए उन्हें झूठे मामलें में फंसाया जा रहा है।

पीडि़त एक खानाबदोश समुदाय से थी और उसकी जनवरी में हत्या कर दी गई। राज्य सरकार को नोटिस जारी करते हुए प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम.खानविलकर व न्यायमूर्ति डी.वाई.चंद्रचूड़ की पीठ ने जम्मू एवं कश्मीर के महाधिवक्ता से भी मदद मांगी है। याचिकाकर्ता की तरफ से पेश वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने अदालत से कहा कि वह सिर्फ हिरासत में यातना को लेकर चिंतित हैं और किसी अन्य मुद्दे को लेकर नहीं।

जयसिंह ने शीर्ष अदालत के कई फैसलों का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि अमेरिकी संघीय अदालत का तर्क है कि एक व्यक्ति हिरासत में रहने पर भी अपने संवैधानिक अधिकारों का लाभ उठा सकता है। याचिकाकर्ता की दलील है कि कार्यकर्ता तालिब हुसैन को कठुआ पीडि़ता के लिए न्याय को लेकर सार्वजनिक अभियान का नेतृत्व करने के कारण फंसाया और प्रताडि़त किया गया है।-आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Witness torture in custody,Supreme Court responds from state
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: kathua gang rape, witness torture, supreme court, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, delhi news, delhi news in hindi, real time delhi city news, real time news, delhi news khas khabar, delhi news in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved