• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

खराब हवा उत्तर भारत में 7 साल घटा रहीं जिंदगियां, इन राज्यों में है ज्यादा पर्टिकुलेट प्रदूषण

नई दिल्ली। वायु गुणवत्ता जीवन सूचकांक (एक्यूएलआई) के विश्लेषण से पता चलता है कि गंगा के मैदानी क्षेत्र में रह रहा हर नागरिक औसत रूप से अपनी जीवन प्रत्याशा सात साल खो सकता है। इसकी वजह पर्टिकुलेट प्रदूषण के बिहार, चंडीगढ़, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश व पश्चिम बंगाल में ज्यादा होना है।

यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो के एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट (ईपीआईसी) के शोध से पता चलता है कि ऐसा इस वजह से है कि वायु गुणवत्ता वल्र्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) के फाइन पर्टिकुलेट प्रदूषण के दिशानिर्देश के पालन में विफल है। इस क्षेत्र में 1998 से 2016 में प्रदूषण में 72 फीसदी की वृद्धि हुई है, जहां 40 फीसदी भारतीय आबादी रहती है।

साल 1998 में लोगों के जीवन पर पडऩे वाला प्रभाव आज के प्रभाव का आधा रहा, निवासी अपनी 3.7 साल जीवन प्रत्याशा खो रहे थे। गंगा के मैदानी क्षेत्र के बाहर रहने वाले नागरिकों में 1998 में जीवन में 1.2 सालों की कमी देखी गई, ऐसा वायु गुणवत्ता की वजह से हुआ।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Study says, Life expectancy in Gangetic Plain down 7 years over poor air quality
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: study, life expectancy, gangetic plain, poor air quality, bihar, chandigarh, delhi, haryana, punjab, uttar pradesh, west bengal, particulate pollution, who, epic, aqli, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, delhi news, delhi news in hindi, real time delhi city news, real time news, delhi news khas khabar, delhi news in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2020 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved