• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 3

साल 2018: BJP विरोधी दल एकजुट, मगर संघीय मोर्चे की संभावना नहीं

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के कैराना, फूलपुर और गोरखपुर में इस साल हुए संसदीय उपचुनावों में समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के एकजुट होने से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को मिली हार से भाजपा विरोधी मोर्चे को अहम बढ़त हासिल हुई और 2018 के खत्म होते होते विपक्षी दल अब आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा के खिलाफ मैदान में उतरने के लिए जुटने लगे हैं। हिंदी भाषी राज्यों के हालिया विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की जीत ने हालांकि कुछ महत्वाकांक्षी क्षेत्रीय दलों को हतोत्साहित कर दिया है, जो यह कहना चाहते हैं कि अगली सरकार का गठन कैसे होगा।

इस संदर्भ में किसी भाजपा विरोधी मोर्चे पर ध्यान केंद्रित करने के बजाए विश्लेषकों को लगता है कि अब हालात भगवा दल को हराने के लिए राज्य स्तर के गठबंधन के लिए तैयार हैं और लोकसभा चुनाव के बाद अंतिम संख्या के सामने आने पर संघीय मोर्चा निर्भर करता है। द्रमुक और राजद जैसे दलों को छोड़कर बाकी सभी क्षेत्रीय पार्टियां अपनी हिस्सेदारी बढ़ाना चाहेगी, ताकि चुनाव बाद सत्ता हासिल करने के लिए वे मोलतोल कर सकें। कांग्रेस और कई अन्य विपक्षी दलों में एक बिंदु पर एकता है कि लोकसभा चुनाव में भाजपा-आरएसएस को वे हराना चाहते हैं और नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ अपनी तैयारियों के निर्माण में बीते एक साल से कई बैठकें भी कर चुके हैं।

इस साल तृणमूल कांग्रेस की नेता व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, तेलुगू देशम पार्टी के नेता व आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार को राज्य की पार्टियों को एक भाजपा विरोधी मंच पर कांग्रेस के साथ लाने का प्रयास करते देखा गया। विपक्षी एकता की नीव कांग्रेस ने तब रखी, जब उसने राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए संयुक्त उम्मीदवार उतारने पर फैसला करने के लिए बैठकें आयोजित कीं।


कांग्रेस ने राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के बाद विपक्षी खेमे में अपनी स्थिति और मजबूत कर ली है, लेकिन उसे उत्तर प्रदेश, बिहार, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल जैसे महत्वपूर्ण राज्यों में गठबंधन की जरूरत है। पार्टी पूर्वोत्तर में प्रमुख दल होने का अपना दर्जा खो चुकी है।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Opposition parties united, But the no possibility of a federal front
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: samajwadi party, bahujan samaj party, national lok dal, dmk, rjd, trinamool congress, bjp, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, राष्ट्रीय लोक दल, द्रमुक, राजद, तृणमूल कांग्रेस, भाजपा, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, delhi news, delhi news in hindi, real time delhi city news, real time news, delhi news khas khabar, delhi news in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2021 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved