• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

कैसे पीएफआई ने विदेशों से गुपचुप तरीके से जुटाया फंड ?, यहां पढ़ें

How PFI secretly raised funds from abroad - Delhi News in Hindi

नई दिल्ली । पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई), जिसे सरकार ने बुधवार को पांच साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया, वह भारत और विदेशों दोनों से अलग-अलग चैनलों (माध्यमों) का उपयोग करके धन एकत्र कर रहा था। जांच एजेंसियों को अब पता चला है कि विदेशों में पीएफआई के सदस्य हज यात्रियों को सहायता के नाम पर, अपनी नकली फर्मों की सदस्यता, रियल एस्टेट सौदों, पब-बार और आतंकवादी संगठनों को पुरानी कारों को बेचने समेत विभिन्न माध्यमों का उपयोग करके धन इकट्ठा करते थे। यह पैसा बाद में एनआरआई खातों में भेजा जाता था जहां से इसे भारत में पीएफआई सदस्यों को ट्रांसफर कर दिया जाता था। खाताधारकों के वित्तीय प्रोफाइल से मेल नहीं खाने वाले पीएफआई के 100 से अधिक बैंक खाते एजेंसियों के संज्ञान में आए हैं।

यहां बताया गया है कि कैसे पीएफआई ने विदेशों से गुप्त रूप से पैसा इकट्ठा किया।

हज यात्रा: खाड़ी देशों में सक्रिय पीएफआई सदस्यों ने हज यात्रा पर जाने वाले भारतीयों को पैसे के बदले मदद की। यह पैसा बाद में भारत भेजा जाता था। पीएफआई ने भारत को पैसा भेजने के लिए हर संभव रास्ते अपनाए- चाहे वह हवाला हो या सोने का कारोबार।

एनआरआई खाते: सूत्र ने कहा, विदेशों में पीएफआई सदस्यों ने संयुक्त अरब अमीरात और अन्य खाड़ी देशों के एनआरआई खातों में पैसा भेजा। एनआरआई खातों में फंड प्राप्त करने के बाद, खाताधारकों ने इसे पीएफआई नेताओं से संबंधित विभिन्न खातों में ट्रासफर कर दिया। मनी ट्रांसफर के लिए यह तरीका विदेशी मुद्रा विनियमन अधिनियम (फेरा) का सीधा उल्लंघन था।

रियल एस्टेट: पीएफआई का सदस्य और केरल के चावाकाडु जिले का निवासी सैफू अबू धाबी में रहता है जहां वह रियल एस्टेट का कारोबार करता हैं। यह पता चला है कि उसने भारत में पीएफआई नेताओं के खातों में पैसे भेजे थे। रेंट-ए-कार सेवा के माध्यम से अर्जित धन को भी भारत में ट्रांसफर कर दिया गया।

अबू धाबी में बार: अबू धाबी में नाइट क्लब और बार हैं जहां कानूनी रूप से शराब उपलब्ध है। इनमें से कुछ आउटलेट्स पीएफआई सदस्यों द्वारा चलाए जा रहे थे, जिन्होंने इस व्यवसाय से बड़ी मात्रा में कमाई की, जिसे उन्होंने भारत में अपने पीएफआई साथियों को भेजे।

केआईएसफ सदस्यता: पीएफआई कुवैत में 'कुवैत इंडिया सोशल फोरम' (केआईएसफ) के नाम से सक्रिय था। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के सूत्रों ने कहा कि केआईएसएफ भारत में पीएफआई की गतिविधियों का समर्थन करने के लिए अपने सदस्यों से वार्षिक सदस्यता शुल्क एकत्र करता था।

पुनर्वसन फाउंडेशन और ओमान स्थित सदस्य: पीएफआई के कई डमी संगठन हैं जो खाड़ी देशों में सक्रिय हैं। राष्ट्रीय विकास मोर्चा (एनडीएफ) एक ऐसा संगठन है जो ओमान में सक्रिय है। एजेंसियों को पता चला है कि एनडीएफ ने भारत में पीएफआई सदस्यों को हवाला चैनलों के जरिए करीब 44 लाख रुपये भेजे। पीएफआई के एक सदस्य की पहचान अशफाख चैकीनाकथ पुयिल के रूप में हुई है, जिसने सभी खातों का विवरण रखा। पैसा केरल में रिहैब इंडिया फाउंडेशन को भेजा गया था, जो पीएफआई का एक और डमी संगठन है।

आईएसआईएस को पुरानी कारों की बिक्री: एजेंसियों ने दावा किया है कि सीरिया में, मुहम्मद फहीमी के रूप में पहचाने जाने वाले एक पीएफआई सदस्य ने आईएसआईएस और अन्य आतंकवादी समूहों को पुरानी कारों को बेचकर बड़ी मात्रा में पैसा कमाया। यह पैसा बाद में हवाला के जरिए भारत भेजा गया।

कतर कनेक्शन: पीएफआई में कई मलयाली सदस्य हैं जो कतर में रहते हैं। वे एक कल्चरल फोरम (सीएफ) चलाते हैं, जो पीएफआई का एक डमी संगठन भी है। कतर में इन सदस्यों द्वारा मुसलमानों के लिए सहायता के नाम पर एकत्र किया गया धन भारत में पीएफआई और एसडीपीआई नेताओं को भेजा गया था।

विदेशों में रहने वाले पीएफआई सदस्यों ने भी ई-वॉलेट का उपयोग करके भारत में पैसा ट्रांसफर किया, उन्हें कानूनी सहायता और सामुदायिक दान के रूप में दिखाया गया। पीएफआई को देश और विदेश से संदिग्ध माध्यमों से धन प्राप्त हो रहा था। पीएफआई और उसके सहयोगियों ने बड़ी संख्या में बैंक खातों को बनाए रखा और भारत और विदेशों में स्थित अपने शुभचिंतकों और वित्तदाताओं के माध्यम से पैसा प्राप्त किया।

सूत्र ने कहा, खाता धारकों के वित्तीय प्रोफाइल से मेल नहीं खाने वाले पीएफआई के 100 से अधिक बैंक खाते एजेंसियों के संज्ञान में आए हैं। परिणामस्वरूप, आईटी अधिनियम की धारा 12ए और 12एए के तहत पीएफआई की पंजीकरण स्थिति वापस ले ली गई है।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-How PFI secretly raised funds from abroad
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: pfi, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, delhi news, delhi news in hindi, real time delhi city news, real time news, delhi news khas khabar, delhi news in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved