• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

दिल्ली में डेल्टा के साथ कोविड की दूसरी लहर में हर्ड इम्युनिटी बन रही : अध्ययन

Herd immunity building in the second wave of Covid along the Delta in Delhi: Study - Delhi News in Hindi

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम के अनुसार, इस साल दिल्ली में कोविड-19 के गंभीर प्रकोप ने न केवल यह दिखाया कि सार्स-कोवी2 का डेल्टा संस्करण अत्यंत पारगम्य है, बल्कि यह वायरस के विभिन्न उपभेदों से पहले संक्रमित व्यक्तियों को संक्रमित कर सकता है। नेशनल सेंटर ऑफ डिजीज कंट्रोल और काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआईआर), इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी, भारत के नेतृत्व में टीम, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय और इंपीरियल कॉलेज लंदन, यूके और कोपेनहेगन विश्वविद्यालय के सहयोगियों के साथ, डेनमार्क ने प्रकोप का अध्ययन करने के लिए गणितीय मॉडलिंग के साथ जीनोमिक और महामारी विज्ञान डेटा का उपयोग किया।

यह निर्धारित करने के लिए कि दिल्ली में अप्रैल 2021 के प्रकोप के लिए सार्स-कोवी2 वेरिएंट जिम्मेदार थे। टीम ने नवंबर 2020 में जून 2021 तक पिछले प्रकोप से वायरल नमूनों का अनुक्रम और विश्लेषण किया।

साइंस जर्नल में प्रकाशित उनके निष्कर्षो से पता चला है कि दिल्ली में 2020 का प्रकोप किसी भी प्रकार की चिंता से संबंधित नहीं था। जनवरी 2021 तक अल्फा संस्करण (बी.1.1.7) की पहचान कभी-कभार ही मुख्य रूप से विदेशी यात्रियों में की गई थी।

अप्रैल में डेल्टा वेरिएंट (बी.1.617.2) में तेजी से वृद्धि से विस्थापित होने से पहले, मार्च 2021 में अल्फा वेरिएंट दिल्ली में बढ़कर लगभग 40 प्रतिशत हो गया।

शोधकर्ताओं ने सीएसआईआर द्वारा भर्ती किए गए व्यक्तियों के एक समूह की जांच की। फरवरी में, अध्ययन में भाग लेने वाले 42.1 प्रतिशत गैर-टीकाकरण वाले विषयों ने सार्स-कोवी2 के खिलाफ एंटीबॉडी के लिए सकारात्मक परीक्षण किया था।

जून में, यह संख्या 88.5 प्रतिशत थी, जो दूसरी लहर के दौरान बहुत अधिक संक्रमण दर का संकेत देती है। डेल्टा से पहले पूर्व संक्रमण वाले 91 विषयों में, लगभग एक-चौथाई (27.5 प्रतिशत) ने एंटीबॉडी के स्तर में वृद्धि देखी, जो पुन: संक्रमण के प्रमाण प्रदान करते हैं।

जब टीम ने अध्ययन की अवधि के दौरान एक ही केंद्र में टीकाकरण-सफलताके मामलों के सभी नमूनों का अनुक्रम किया, तो उन्होंने पाया कि 24 रिपोर्ट किए गए मामलों में, डेल्टा गैर-डेल्टा वंश की तुलना में टीकाकरण सफलताओं की ओर ले जाने की संभावना सात गुना अधिक थी।

चूंकि मार्च 2020 में दिल्ली में कोविड -19 के पहले मामले का पता चला था, इसलिए शहर ने जून, सितंबर और नवंबर 2020 में कई प्रकोपों का अनुभव किया था।

नवंबर 2020 में, राजधानी शहर में प्रतिदिन लगभग 9,000 मामले थे, लेकिन दिसंबर 2020 और मार्च 2021 के बीच इसमें लगातार गिरावट आई। हालांकि, अप्रैल 2021 में स्थिति नाटकीय रूप से उलट गई, जो लगभग 2,000 दैनिक मामलों से 31 मार्च और 1 अप्रैल के बीच 20,000 हो गई।

कैम्ब्रिज इंस्टीट्यूट ऑफ थेराप्यूटिक इम्यूनोलॉजी एंड इंफेक्शियस डिजीज के प्रोफेसर रवि गुप्ता ने कहा, "प्रकोपों को समाप्त करने में झुंड प्रतिरक्षा की अवधारणा महत्वपूर्ण है, लेकिन दिल्ली की स्थिति से पता चलता है कि डेल्टा के खिलाफ झुंड प्रतिरक्षा तक पहुंचने के लिए पिछले कोरोना वायरस वेरिएंट के साथ संक्रमण अपर्याप्त होगा।"

उन्होंने कहा, "डेल्टा के प्रकोप को समाप्त करने या रोकने का एकमात्र तरीका या तो इस प्रकार के संक्रमण से या वैक्सीन बूस्टर का उपयोग करके है जो डेल्टा की तटस्थता से बचने की क्षमता को दूर करने के लिए एंटीबॉडी के स्तर को काफी अधिक बढ़ा देता है।"

अनुसंधान को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद और जैव प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा भी समर्थन दिया गया था।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Herd immunity building in the second wave of Covid along the Delta in Delhi: Study
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: delhi, along with delta, second wave of covid, immunity, study, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, delhi news, delhi news in hindi, real time delhi city news, real time news, delhi news khas khabar, delhi news in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved