• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

चुनाव आयोग इस बार शहरी मतदाताओं की उदासीनता को लेकर ज्यादा चिंतित, आखिर क्यों, यहां पढ़ें

Election Commission this time more worried about the apathy of urban voters - Delhi News in Hindi

नई दिल्ली । हिमाचल प्रदेश और गुजरात की सभी 250 विधानसभा सीटों पर मतगणना के दौरान ईवीएम को लेकर कोई शिकायत नहीं आई, न ही दोबारा मतदान हुआ और न ही कोई शिकायत हुई। हालांकि चुनाव आयोग इस बार शहरी मतदाताओं की उदासीनता को लेकर ज्यादा चिंतित है। चुनाव आयोग के एक शीर्ष अधिकारी ने शुक्रवार को कहा, "59723 मतदान केंद्रों में से किसी भी मतदान केंद्र पर पुनर्मतदान नहीं हुआ, कुप्रबंधन या भीड़ नियंत्रण या किसी भी प्रकार की अराजकता की कोई घटना नहीं देखी गई। ईवीएम की खराबी के बारे में किसी भी स्तर पर कोई शिकायत नहीं मिली। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि कम के साथ परिणाम 1000 से अधिक जीत के अंतर को भी स्वीकार किया गया और कोई प्रतियोगिता या शिकायत नहीं थी।"

हिमाचल प्रदेश में पांच सीटें ऐसी हैं, जहां जीत का अंतर 500 से कम था। उदाहरण के लिए भोरंज निर्वाचन क्षेत्र में अंतर सिर्फ 60 था और श्री नैनादेवीजी सीट के लिए 171 था। इसी तरह गुजरात में दो सीटें रापर और सोमनाथ हैं, जहां क्रमश: 577 और 922 का अंतर था।

अधिकारी ने कहा, "चुनाव की सत्यनिष्ठा पर इतना भरोसा है कि किसी भी पार्टी या उम्मीदवार ने नतीजों पर सवाल नहीं उठाया और न ही दोबारा मतगणना के लिए कहा। ईवीएम में हेरफेर की सामान्य बयानबाजी भी नहीं दोहराई गई।"

अधिकारी ने दोनों राज्यों में शहरी उदासीनता पर प्रकाश डाला। उन्होंेने कहा, "यह बहुत आश्चर्यजनक है। शहरी क्षेत्रों में कई मतदाता बस बाहर आने और मतदान करने की जहमत नहीं उठाते। वे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर चुनाव और लोकतंत्र के बारे में टिप्पणी कर सकते हैं, लेकिन उनमें से कई मतदान के प्रति उदासीन दिखाई देते हैं।"

अधिकारी ने शहरी समूहों में प्रवासी मतदाताओं के बारे में बताया कि उनमें से अधिकांश अपने मूल स्थानों के मतदाता कार्ड को सरेंडर नहीं करते हैं। उन्होंने कहा, "इस स्थिति में वे चाहकर भी अपना वोट नहीं डाल पा रहे हैं। यह एक प्रमुख मुद्दा है। आयोग ने इस पर ध्यान दिया है और यह इस मुद्दे पर काम कर रहा है।"

गुजरात में सूरत, राजकोट और जामनगर में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में राज्य के औसत 63.3 फीसदी मतदान से कम दर्ज किया गया। जबकि कई निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान प्रतिशत में वृद्धि हुई, औसत मतदाता मतदान प्रतिशत इन महत्वपूर्ण जिलों में शहरी उदासीनता से कम हो गया।

हिमाचल प्रदेश में शिमला के शहरी विधानसभा क्षेत्र में सबसे कम 62.53 फीसदी (13 प्रतिशत अंकों से कम) दर्ज किया गया, जबकि राज्य का औसत 75.6 फीसदी था।

चुनाव आयोग के अनुसार, गुजरात के शहरों ने विधानसभा चुनाव में 1 दिसंबर को मतदान के दौरान इसी तरह की शहरी उदासीनता की प्रवृत्ति दिखाई है, इस प्रकार पहले चरण में मतदान का प्रतिशत कम हो गया है।

ग्रामीण और शहरी निर्वाचन क्षेत्रों के बीच मतदान प्रतिशत में स्पष्ट अंतर था। यह अंतर 34.85 फीसदी जितना बड़ा था, अगर इसकी तुलना नर्मदा जिले के देदियापाड़ा के ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र से की जाए, जिसमें 82.71 फीसदी दर्ज किया गया और कच्छ जिले के गांधीधाम के शहरी निर्वाचन क्षेत्र में 47.86 फीसदी मतदान हुआ।

देशभर में शहरी उदासीनता की प्रवृत्ति को दूर करने के लिए आयोग ने लक्षित जागरूकता हस्तक्षेप सुनिश्चित करने के लिए सभी सीईओ को कम मतदाता वाले निर्वाचन क्षेत्रों और मतदान केंद्रों की पहचान करने का निर्देश दिया था।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Election Commission this time more worried about the apathy of urban voters
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: election commission, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, delhi news, delhi news in hindi, real time delhi city news, real time news, delhi news khas khabar, delhi news in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2023 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved