• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

चंडीगढ़ः फिर सियासी-कानूनी पैंतरेबाजी में उलझा मेयर पदभार ग्रहण और सीनियर डिप्टी मेयर, डिप्टी मेयर चुनाव

Chandigarh: Again entangled in political-legal maneuvers, Mayor taking charge and Senior Deputy Mayor, Deputy Mayor elections - Chandigarh UT News in Hindi

चंडीगढ़। जोड़-तोड़ की हावी राजनीति के बीच नए मेयर कुलदीप कुमार का शपथ ग्रहण और सीनियर डिप्टी मेयर-डिप्टी मेयर के चुनाव सियासी और कानूनी पैंतरेबाजी में उलझ गए हैं। अब आप-कांग्रेस भी भाजपा की राह चल पड़ी है। बात अगर सियासी पैंतरेबाजी की करें तो पूरी राजनीतिक हलचल के बीच सबसे पहले सोमवार को नए मेयर कुलदीप कुमार ने निजी पारिवारिक कारण बताकर अपना पद ग्रहण नहीं किया।
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद तय कार्यक्रम के अनुसार कुलदीप कुमार को नगर निगम में शपथ ग्रहण समारोह के तहत सुबह 11 बजे अपना पद संभालना था। मेयर का कहना था कि उनकी बहन की अचानक तबीयत खराब हो गई जिसके चलते उन्हें शहर से बाहर जाना पड़ा। मेयर के पद ग्रहण नहीं किए जाने से तय कार्यक्रम को फिलहाल के लिए रद्द कर दिया गया।
बताया गया कि कुछ निजी और पारिवारिक कारणों के चलते कुलदीप कुमार आज मेयर पद ग्रहण करने में असमर्थ हैं। समारोह के लिए तैयारी की गई थी इसमें गठबंधन के कई नेताओं ने शिरकत करनी थी। मेयर कब पदभार ग्रहण करेंगे तय नहीं है। सीनियर डिप्टी मेयर-डिप्टी मेयर चुनाव पर भी संशय है।
चुनाव स्थगन की कोई आधिकारिक सूचना जारी नहींः
वहीं, मंगलवार को तय कार्यक्रम के अनुसार निगम में होने वाले सीनियर डिप्टी मेयर और डिपटी मेयर के दोबारा होने जा रहे चुनाव पर भी संशय के बादल हैं। सीनियर डिप्टी मेयर अ‍ैर डिप्टी मेयर चुनाव के लिए मेयर ही प्रसाइडिंग अथॉरिटी बनाए गए हैं, जिनकी गैर-मौजूदगी में चुनाव शायद ही संभव हो सके। हालांकि मेयर की ओर से निगम ने शपथ ग्रहण समारोह और चुनाव स्थगित किए जाने की कोई आधिकारिक सूचना जारी नहीं की गई है।
आज तस्वीर साफ होने की उम्मीद :
वहीं, सोमवार को ही कांग्रेस ने पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में नई याचिका दाखिल कर मंगलवार को सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर के चुनाव को लेकर डीसी की ओर से जारी नोटिफिकेशन को चुनौती दी है। इससे पूर्व कांग्रेस की ओर से 7 फरवरी को दायर याचिका को वापस ले लिया था। कांग्रेस के पार्षद और गठबंधन के उम्मीदवार गुरप्रीत सिंह गाबी और निर्मला देवी की नई याचिका पर सुनवाई भी मंगलवार को तय की गई है। याचिका में 23 फरवरी को डीसी द्वारा जारी किए गए नोटिस को चुनौती दी गई है। इस स्थिति में कोर्ट में सुनवाई के बाद चुनाव को लेकर तस्वीर पूरी तरह से साफ होने की उम्मीद है।
भाजपा बहुमत ने गठबंधन का बिगाड़ा खेल:
वहीं, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई से पहले आप के तीन पार्षद टूट कर भाजपा में चले गए। इससे उसकी संख्या सांसद की वोट मिलाकर 18 हो गई। जबकि गठबंधन 20 से 17 की संख्या पर पहुंच गया। अटकले हैं कि इस अंक गणित के खेल ने मेयर की ताजपेशी पर ब्रेक लगाने पर विवश कर दिया। सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर के चुनाव होने की सूरत पर दोनों ही पद भाजपा को जा सकते हैं। यही वजह है कि 18 जनवरी से अभी तक भी चला आ रहा खेल पर खेल होता जाता है।
गठबंधन भी हार टालने को अपना रहा पैंतरा:
मेयर पद ग्रहण न कर पाने को लेकर कुलदीप कुमार की तरफ से भले ही पारिवारिक कारणों का हवाला दिया गया है लेकिन राजनीतिक गलियारों में चचार्एं कुछ अलग हैं। कहा जा रहा है कि, 27 फरवरी को सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर के चुनाव होने को लेकर कुलदीप के मेयर पद ग्रहण कार्यक्रम को टाला गया है। इस चुनाव में पीठासीन अधिकारी कुलदीप कुमार हैं। वहीं इस चुनाव में बीजेपी के पास बहुमत है।
ऐसे में माना जा रहा है कि आम आदमी पार्टी भी बीजेपी की राह पर चल पड़ी है। जैसे 18 जनवरी को पीठासीन अधिकारी और बीजेपी नेता अनिल मसीह अचानक बीमार हो गए थे। उस समय आम आदमी पार्टी और काँग्रेस के पास गठबंधन से बहुमत था। ठीक उसी तरह सीनियर डिप्टी मेयर - डिप्टी मेयर लग रहा है कि यह चुनाव भी टाला जा सकता है। इसका मतलब है कि जिस तरीके से भारतीय जनता पार्टी ने मेयर चुनाव जीतने के लिए रणनीति अपनाई थी । कुछ उसी राह पर अब आम आदमी पार्टी चंडीगढ़ ईकाई भी चल रही है।
इंडी गठबंधन में फिर रार पैदा करने की कोशिश कर रही भाजपाः
संकेत ऐसे मिल रहे हैं की डिप्टी मेयर और सीनियर डिप्टी मेयर के चुनाव में भी वही रणनीति अपनाई जाएगी जो रास्ता भाजपा ने दिखाया है। कयास लगाए जा रहे है कि इस पूरी सियासी जंग और पैंतरेबाजी में खेल तो होगा और पूरी तरीके से खेल होगा। शतरंज की इस बिसात पर भाजपा के लिए भले आज की तारीख में बहुमत हासिल हो। मगर जब बिसात बिछेगी और पासे चले जाएंगे तब पता चलेगा की शतरंज की विशाल पर चले जाने वाले पासे किसकी तरफ गिरते हैं। बीजेपी की कोशिश गठबंधर में फिर से रार करने की लगी हुई है तो जवाब में गठबंधन भी अपने गंवाए पार्षदों को घर वापसी करना चाहता है। इसके लिए एक दूसरे से किसी ना किसी तरके से संपर्क साधे जा रहे हैं।
आप नेताओं-पार्षदों की हुई बैठक, एकजुट रहने की सलाह :
वहीं, शपथ ग्रहण समारोह स्थगित होने के कुछ समय बाद प्रभारी सहित सह प्रभारी और अन्य वरिष्ठ नेताओं की आप पार्षदों के साथ अलग से बैठक भी हुई। बैठक में सभी पार्षदों को एकत्रित रहने की नसीहत दी गई।
बीजेपी पार्षदों ने मोरनी मं डेरा डाला हुआ है :
वहीं, बीजेपी पार्षदों ने भी मोरनी में डेरा डाला हुआ है। चुनाव की तिथि वाले दिन ही सभी पार्षद सदन पहुंचेंगे। हालांकि जिस तरह से शपथ ग्रहण समारोह स्थगित हुआ उससे सवाल उठ रहा है कि इस उलझन की स्थिति में सीनियर डिप्टी मेयर-डिप्टी मेयर के चुनाव वाले दिन बीजेपी पार्षद भी शायद तय समय पर पहुंचे?

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Chandigarh: Again entangled in political-legal maneuvers, Mayor taking charge and Senior Deputy Mayor, Deputy Mayor elections
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: chandigarh, politics, swearing in, new mayor kuldeep kumar, elections, senior deputy mayor, deputy mayor, political and legal maneuvers, aap, congress, bjp, political turmoil, personal family reasons, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news, chandigarh ut news, chandigarh ut news in hindi, real time chandigarh ut city news, real time news, chandigarh ut news khas khabar, chandigarh ut news in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2024 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved