• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 4

विश्वास की डोर पर टिकता है रिश्ता, भूलकर भी ऐसा न करें जो . . . . .

रिश्ता . . . एक ऐसा शब्द जिसे कभी कोई परिभाषित नहीं कर सकता। रिश्ता सिर्फ खून का ही नहीं होता है। रिश्ता कई प्रकार का हो सकता है। किसी भी रिश्ते को निभाना आसान नहीं होता। चाहे वह करीब का हो, दूर का हो या फिर प्रेमी प्रेमिका का हो। बचपन से सुनते आए हैं कि रिश्तों की डोर नाजुक होती है, एक बार यह टूट जाए तो फिर जुडऩा मुश्किल होता है। इस बात का अहसास जिन्दगी के 50 साल गुजर जाने के बाद हुआ। जब मैं स्वयं अपने भाई-बहनों, ससुराल यहाँ तक कि अपनी पत्नी से अपना रिश्ता नहीं निभा सका। पिछले 8 साल से एकाकी जीवन बिताते हुए परेशान हो गया हूँ। ऐसे में जरूरी है कि आप अपने रिश्तों को अच्छी तरह से निभाएं और संभालें। यह बात लौंग डिसटेन्स रिलेशनशिप में और भी ज्यादा जरूरी हो जाती है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-The relationship rests on the thread of trust, donot forget to do that.. ...,
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: the relationship rests on the thread of trust, donot forget to do that
Khaskhabar.com Facebook Page:

लाइफस्टाइल

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved