• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

वास्तु: उत्तर-पश्चिम की दिशा में होना चाहिए शू रैक, सकारात्मकता का होता है संचार

Vastu: Shoe rack should be in North-West direction, there is communication of positivity - Vastu Tips in Hindi

हम आमतौर पर जूतों को नकारात्मक ऊर्जा से जोड़ते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें बहुत अधिक गंदगी और कीटाणु होते हैं। हम अक्सर इस बात को लेकर असमंजस में रहते हैं कि हमें अपने पुराने जूतों को कहां रखना चाहिए जिससे कि यह हमारे आसपास की सकारात्मक ऊर्जा को प्रभावित न करे।

हम अक्सर जूतों को गलत जगह, गलत दिशा में, गलत रैक में रख देते हैं, जो हमारे घर में सकारात्मक ऊर्जा को बेअसर कर देता है और हमें नकारात्मक तरीके से प्रभावित करता है। उदाहरण के लिए, बच्चों की शिक्षा, परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य आदि पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

जूतों के साथ ग्रहों का जुड़ाव
यह समझने के लिए कि हमारे जूते या जूते के रैक के लिए कौन सा स्थान सही हो सकता है। सबसे पहले हमें यह समझने की जरूरत है कि कौन से ग्रह जूते से संबंधित हैं। जूते हमारे जीवन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। यह हमारे पैरों को कट और फटने से बचाता है। यह हमें गंदगी, संक्रमण और कीटाणुओं से भी बचाता है। जूते हमारे पराक्रम के लिए सुरक्षा का काम करते हैं। लेकिन इससे जुड़े कीटाणु और गंदगी नकारात्मकता से जुड़े होते हैं। इसलिए इसे ऐसे स्थान पर रखना चाहिए जो हमारे स्वास्थ्य, मन और घर की सकारात्मकता को प्रभावित न करे।

हमारे पैरों और जूतों से जुड़े मुख्य तीन ग्रह शनि, राहु और केतु हैं।
शनि अनुशासन, कड़ी मेहनत और समर्पण का ग्रह है। हमारे सभी नियमित कार्यों के लिए हमारे पैरों के सहारे की आवश्यकता होती है। हड्डियों का संबंध शनि ग्रह से भी है। केतु शरीर के निचले हिस्से को नियंत्रित करने वाला ग्रह है और राहु सुरक्षा का काम करता है।

इसलिए इन तीनों ग्रहों की ऊर्जा एक साथ हमारे पैरों और जूतों से जुड़ी हुई है। इन तीनों ग्रहों को आमतौर पर अशुभ ग्रह माना जाता है जो हमारे जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डालते हैं। सबसे पहले, हमें किसी से उपहार के रूप में जूते कभी नहीं लेने चाहिए क्योंकि वे इन तीनों ग्रहों की ऊर्जा अपने साथ लाएंगे।

हमें किसी को जूते उपहार में देने से भी बचना चाहिए क्योंकि इससे इन तीनों ग्रहों की नकारात्मक ऊर्जा किसी को हस्तांतरित होती है। हालांकि, कभी-कभी ज्योतिषीय उपाय के रूप में हम नौकरों, श्रमिकों या गरीब व्यक्तियों को जूते उपहार में दे सकते हैं।

यह हमेशा सलाह दी जाती है कि अपने जूते नियमित अंतराल पर साफ करें जब हम अपने जूते साफ रखते हैं तो शनि के हानिकारक प्रभाव और राहु निष्प्रभावी हो जाते हैं। इसलिए जूतों की सही जगह और देखभाल करने से हम पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है और यह ग्रहों के अशुभ प्रभावों को बेअसर करने की क्षमता भी रखता है।

वास्तु के अनुसार जूतों का स्थान
वास्तु के अनुसार आमतौर पर जूते को मुख्य दरवाजे के सामने रखने की सलाह नहीं दी जाती है। हालांकि जूते के रैक को हमेशा मुख्य दरवाजे से कहीं और रखना मुश्किल हो सकता है। मुख्य द्वार से प्रवेश करने पर, बायीं ओर का कोना चाहे वह किसी भी दिशा में हो, उस दिशा के लिए कमजोर या नकारात्मक स्थान माना जाता है।

यह आपके जूते रखने का सही स्थान है। इसके अलावा अपने जूतों के खानदान को साफ सुथरा रखें। याद रखें कि पुराने जूते न रखें और उन्हें रखते हुए हमेशा अपने जूतों की व्यवस्था करें।

कोशिश करें कि अपने जूते अपने बेडरूम के अंदर न रखें। ऐसा करने से आपके वैवाहिक जीवन में ग्रहों का अशुभ प्रभाव पड़ेगा। इसके अलावा अपने जूते रसोई में या मंदिर के पास न रखें, आपको अपने जूते महत्वपूर्ण दस्तावेजों या अध्ययन स्थलों के पास नहीं रखने चाहिए अन्यथा यह जीवन के इन पहलुओं में इन ग्रहों के हानिकारक प्रभाव लाएगा।

दिशा के अनुसार जूतों का प्लेसमेंट

1. पूर्व दिशा सूर्य की है। यह आपके जूतों के लिए एक खराब स्थान है। ऐसा इसलिए है क्योंकि राहु, केतु और शनि ग्रह सूर्य के शत्रु ग्रह हैं। इस प्लेसमेंट के सामान्य प्रभावों में मानसिक समस्याएं और परिवार के भीतर असंतोष शामिल होगा। बच्चों को मानसिक मंदता का सामना करना पड़ेगा। परिवार आमतौर पर अपने दिमाग का इस्तेमाल नहीं कर पाएगा और घर में मानसिक रुकावट और अवसाद रहेगा। यदि आपने अपने जूते के रैक को पूर्व दिशा में रखा है और ऐसी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है तो अपने जूते के रैक को कुछ फीट स्थानांतरित करने का प्रयास करें। हालांकि अगर आप ऐसी किसी समस्या का सामना नहीं कर रहे हैं तो अपने शू रैक को वैसे ही रहने दें जैसे वह है।

2. अगर शू रैक को दक्षिण-पूर्व दिशा में रखा जाए। आप देखेंगे कि आपके स्थान पर शांति का अभाव है। आपको जीवन में बड़े अवसर मिल सकते हैं लेकिन आप वित्तीय गड़बड़ी या आपका पैसा अटकते हुए भी देख सकते हैं। या आप उस पैसे से खराब निवेश कर सकते हैं। आप अपने परिवार में लीवर और पित्ताशय की थैली से संबंधित समस्याओं का भी सामना कर सकते हैं। नींद की कमी या निराशा हो सकती है। समाधान के रूप में, आपको रैक की दिशा कुछ फीट बदलनी चाहिए और प्रभावों की जांच करनी चाहिए।

3. यदि दक्षिण दिशा में रखा जाए तो आप देखेंगे कि आप आत्म-संदेह और कम आत्मविश्वास से पीडि़त होंगे। आप जीवन के प्रति आलसी रवैया रखेंगे और जीवन को गंभीरता से नहीं लेंगे। आप अपने काम पर भी ध्यान नहीं दे पाएंगे और अपने काम में बदलाव करते रहेंगे। समाधान के रूप में, आपको रैक की दिशा कुछ फीट बदलनी चाहिए और प्रभावों की जांच करनी चाहिए।

4. यदि दक्षिण-पश्चिम दिशा में रखा गया है, तो अपने जूते दिशा में रखने से आपके व्यक्तिगत जीवन और दैनिक वित्त पर असर पड़ेगा। आपके जीवन की लागत बढ़ेगी और आप पैसे नहीं बचा पाएंगे। आपके वैवाहिक जीवन में व्यक्तिगत स्थिरता का अभाव रहेगा। फेफड़े और दिल से जुड़ी समस्याएं भी हो सकती हैं। समाधान के रूप में, आपको रैक की दिशा कुछ फीट बदलनी चाहिए और प्रभावों की जांच करनी चाहिए।

5. पश्चिम दिशा में रखा जाए तो वास्तु के अनुसार जूते रखने के लिए यह सही दिशा है। यद्यपि यदि आप स्थिरता की कमी, नौकरियों में बार-बार परिवर्तन, उच्च शिक्षा के अध्ययन में रुकावट, हताशा और अन्य समस्याओं जैसे लक्षणों का सामना करते हैं। आपको इस बात का एहसास होना चाहिए कि इस दिशा में जूते रखना आपको शोभा नहीं देता है और सकारात्मक परिणाम प्राप्त करने के लिए आपको जूते के रैक के स्थान को कुछ फीट से बदलना चाहिए।

6. यदि उत्तर पश्चिम में रखा गया है, तो यह जूते रखने के लिए कमोबेश एक अच्छी स्थिति है, लेकिन यदि आप अपने पेट के निचले हिस्से में समस्याओं का सामना करते हैं या समय पर अपना ऋण चुकाने में सक्षम नहीं हैं, तो आपको यह समझने की आवश्यकता है कि यह दिशा आपके अनुकूल नहीं है और आपको जूतों की दिशा बदलने की जरूरत है। समाधान के रूप में, आपको रैक की दिशा कुछ फीट बदलनी चाहिए और प्रभावों की जांच करनी चाहिए।

7. यदि उत्तर दिशा में रखा जाए तो आपको किडनी और शुगर से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। आप देखेंगे कि अवसर आपके हाथ में नहीं आ रहे हैं। आप देखेंगे कि आपके स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं हैं। यह इंगित करता है कि आपके शू रैक की यह स्थिति आपके लिए उपयुक्त नहीं है। समाधान के रूप में, आपको रैक की दिशा कुछ फीट बदलनी चाहिए और प्रभावों की जांच करनी चाहिए।

आलेख में दी गई जानकारियों को लेकर हम यह दावा नहीं करते कि यह पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Vastu: Shoe rack should be in North-West direction, there is communication of positivity
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: vastu shoe rack should be in north-west direction, there is communication of positivity, astrology in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

जीवन मंत्र

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved