• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

क्या आप जानते हैं कब है एकदंत संकष्टी चतुर्थी, शुभ योग व मंत्र

Do you know when is Ekadant Sankashti Chaturthi, auspicious yoga and mantra? - Puja Path in Hindi

भगवान गणेश का जन्म चतुर्थी तिथि को हुआ था। इसलिए भक्त हर महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी पर संकष्टी चतुर्थी, जबकि ज्येष्ठ माह की चतुर्थी को एकदंत संकष्टी चतुर्थी के रूप में सेलिब्रेट करते हैं। वहीं शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी के रूप में मनाते हैं। इस दिन भगवान गणेश का आशीर्वाद पाने के लिए पूजा और व्रत करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं 2024 में किन शुभ योग में एकदंत संकष्टी चतुर्थी है और किस गणेश मंत्र के जाप से भगवान गणेश प्रसन्न होते हैं। आइए जानते हैं—


नारद पुराण के अनुसार संकष्टी चतुर्थी के दिन भक्त को उपवास करना चाहिए और शाम को संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत कथा सुननी चाहिए। मान्यता है कि संकष्टी चतुर्थी के दिन घर में पूजा करने से नकारात्मकता दूर होती है और पूजा से घर में शांति बनी रहती है। साथ ही भक्त की घरेलू परेशानियां दूर होती हैं और मनोकामना पूरी होती है। साथ ही गणपति बप्पा की पूजा करने से यश, धन, वैभव और अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है।

इस दिन चंद्रमा को देखना भी शुभ माना जाता है। सूर्योदय से शुरू होकर चंद्र दर्शन के बाद ही संकष्टी चतुर्थी व्रत पूरा होता है। बता दें कि संकष्टी चतुर्थी व्रत का निर्धारण चंद्रोदय के आधार पर होता है। मान्यता है कि चतुर्थी तिथि उसी दिन होता है तो जिस दिन चंद्रोदय होता है। इसीलिए कभी-कभी संकष्टी चतुर्थी व्रत तृतीया तिथि के दिन ही होता है। हालांकि गणेश चतुर्थी के दिन गणेश पूजा का सर्वश्रेष्ठ समय मध्याह्न और शाम का होता है।

कब है एकदंत संकष्टी चतुर्थी व्रतः रविवार 26 मई 2024
ज्येष्ठ कृष्ण चतुर्थी तिथि प्रारंभः रविवार 26 मई 2024 को शाम 06:06 बजे से


ज्येष्ठ कृष्ण चतुर्थी तिथि संपन्नः सोमवार 27 मई 2024 को शाम 04:53 बजे


संकष्टी चतुर्थी के दिन चंद्रोदयः 26 मई रविवार रात 09:57 बजे
एकदंत संकष्टी चतुर्थी व्रत के दिन शुभ योग

साध्य योगः रविवार 26 मई सुबह 08:31 बजे तक


शुभ योगः सोमवार 27 मई 2024 सुबह 6.37 बजे तक


सर्वार्थ सिद्धि योगः रविवार सुबह 05:35 बजे से 10:36 बजे तक
एकदंत संकष्टी चतुर्थी पर गणेशजी के मंत्र
श्री वक्रतुण्ड महाकाय सूर्य कोटी समप्रभा निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्व-कार्येशु सर्वदा॥


ॐ श्रीम गम सौभाग्य गणपतये वर्वर्द सर्वजन्म में वषमान्य नमः॥


ॐ एकदन्ताय विद्धमहे, वक्रतुण्डाय धीमहि, तन्नो दन्ति प्रचोदयात्॥


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Do you know when is Ekadant Sankashti Chaturthi, auspicious yoga and mantra?
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: do you know when is ekadant sankashti chaturthi, auspicious yoga and mantra?, astrology in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

जीवन मंत्र

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2024 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved