• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 3

आपकी कुंडली में पितृदोष को ऐसे करें दूर, अपनाएं ये उपाय

यदि परिवार में किसी सदस्य की मृत्यु हुई हो और उस व्यक्ति की कोई आखरी इच्छा जो अधूरी रह गई हो और कोई बचा हुआ काम उसके परिवारजनों द्वारा पूरा नहीं किया गया, तो उस व्यक्ति की आत्मा भटकती रहती है।

इसी कारण परिवार में अशुभता बढ़ती रहती है और इसी को पितृदोष कहते है। ज्योतिष के अनुसार, जन्म कुंडली के प्रथम, द्वितीय, चतुर्थ, पंचम, सप्तम, नवम व दशम भावों में से किसी एक भाव पर सूर्य-राहु अथवा सूर्य-शनि का योग हो तो जातक की कुंडली में पितृ दोष होता है। यह योग कुंडली के जिस भाव में होता है वहां अशुभ फल घटित होते हैं।

जैसे प्रथम भाव में सूर्य-राहु अथवा सूर्य-शनि आदि का अशुभ योग हो तो उस व्यक्ति को अशांत, गुप्त चिंता एवं स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं। पितृदोष से पीडि़त जातक की उन्नति में बाधा रहती है।

पितृदोष निवारण के उपाय...

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Some Common Remedies For Reducing The Effects Of Pitra Dosh
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: effects of pitra dosh, pitra dosh, pitra dosh in kundali, astrology tips, astrology, shradh, horoscope, relief immediately, when pitra dosh in horoscope do this work in the shradh get relief immediately
Khaskhabar.com Facebook Page:

जीवन मंत्र

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved