• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 3

मंगलवार शाम 7.05 से शुरू होगी शरद पूर्णिमा, इस तरह करें पूजा

ज्योतिष में आश्विन पूर्णिमा को महत्त्वपूर्ण माना जाता है। आश्विन पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा के रूप में ज्यादा जाना जाता है। इस बार यह पूर्णिमा 19 अक्टूबर 2021 को शाम 7 बजकर 5 मिनट 43 सेकंड से प्रारम्भ होकर 20 अक्टूबर को रात्रि 8 बजकर 28 मिनट और 57 सेकंड तक रहेगी। धर्मशास्त्रों में आश्विन पूर्णिमा या शरद पूर्णिमा को माँ लक्ष्मी के जन्म दिन के तौर पर मनाया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन मां लक्ष्मी अपने वाहन उल्लू पर सवार होकर धरती पर विचरण करने आती हैं। ऐसे में इस दिन की गई मां लक्ष्मी की पूजा से भक्तों का भाग्य खुलता है और और घर में धनवर्षा होती है। यूं तो हर घर में रोज ईश्वर की आराधना की जाती है लेकिन शरद पूर्णिमा के दिन माँ लक्ष्मी की विशेष पूजा का अपना ही अलग महत्त्व है। आइए डालते हैं एक नजर माँ लक्ष्मी या यूं कहें शरद पूर्णिमा के दिन की जाने वाली पूजा पर—
लें व्रत करने का संकल्प
इस व्रत को करने से पहले अपने सुबह जल्दी उठकर नित्यकर्म से निवृत्त होकर स्नान आदि कार्य करें और फिर अपने ईष्टदेव के समक्ष व्रत करने का संकल्प लें।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Sharad Purnima will start from 7.05 on Tuesday evening, worship like this
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: sharad purnima, will start, from 705 on, tuesday evening, worship like this, astrology in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

जीवन मंत्र

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2021 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved