• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 3

अशुभ योग होने से कष्टों में बीतता है जीवन, ऐसे करें निवारण

ज्योतिष के अनुसार जन्म कुंडली जातक के जीवन में घटने वाली शुभ और अशुभ घटनाओं का ऐसा दर्पण है जिसे एक कुशल एवं अनुभवी ज्योतिषी द्वारा अवलोकन कर विवेचित किया जा सकता है। कुंडली में कुछ ऐसे अशुभ याग होते हैं जिनके होने से एवं उन दोषों का निवारण न किये जाने से जातक का पूरा जीवन दुःख और कष्ट में बीतता है। कुंडली में अशुभ योगों के कारण जातक के जीवन में धन का अभाव, रोग, कर्जा, पारिवारिक कलह, व्यापार में घाटा, नौकरी में परेशानी, संतान सुख की कमी अथवा संतान से कष्ट, धन हानि, संपत्ति को नुक्सान, मेहनत के बावजूद असफलता जैसी समस्याएं आने लगती हैं।

विभिन्न अशुभ योग

कुंडली में गुरु साथ राहु या केतु हो तो चांडाल योग होता है। कुंडली में दूसरे, पांचवें तथा नवें भाव में राहु, केतु अथवा शनि ग्रह की उपस्थिति जातक को पितृ दोष वाला बनाती है। वहीं पांचवें में अकेला राहु बैठा हो तो पितृ दोष के साथ नाग योग भी होता है। सूर्य के साथ मंगल का योग कुंडली में अंगारक योग देता है। इसके अलावा मंगल के साथ राहु या केतु भी अंगारक योग का कारण बनता है। सूर्य के साथ राहु अथवा केतु कुंडली में सूर्य ग्रहण योग देता है, जबकि चंद्र ग्रह के साथ राहु अथवा केतु कुंडली में चंद्र ग्रहण योग बनाता है।
कुंडली में शनि और राहु मिलकर दारिद्र्य योग बनाते हैं। अगर कुंडली में चंद्रमा किसी भी भाव में अकेला बैठा हो तथा उसके आगे-पीछे कोई भी ग्रह न हो तथा उस पर किसी दूसरे ग्रह की दृष्टि भी न पड़ रही हो तो ऐसी कुंडली वाला जातक केमद्रुम योग से पीड़ित रहता है।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Do these things for horoscope problems
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: horoscope problems, horoscope, kundli, kundali, grah dosh, ashubh yoga, rahu, ketu, shani, astrology news in hindi, astrology in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

जीवन मंत्र

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved