• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

दक्षिण की फिल्में राष्ट्रीय स्तर पर सफल, हिंदी फिल्में विफल

South films nationally successful, Hindi films fail - Bollywood News in Hindi

एक हिंदी फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर 100 करोड़ का आंकड़ा पार करने में 4 से 7 दिन का समय लगता हैं, जबकि वही आंकड़ा हाल ही में साउथ की डब की गई फिल्म 'केजीएफ: चैप्टर 2' ने बॉक्स ऑफिस में पहले दो दिनों में ही हासिल कर लिया। साथ ही दक्षिण की फिल्मों को मीडिया के बढ़े हुए संग्रह के आंकड़े जारी करने की जरूरत नहीं है।

दो दिनों में 100 करोड़ रुपये की कमाई करते हुए 'केजीएफ: चैप्टर 2' ने पहले दिन 53 करोड़ रुपये इकट्ठा करने का एक नया रिकॉर्ड बनाया, जबकि 'ठग्स ऑफ हिंदुस्तान' ने पिछले सर्वश्रेष्ठ 51.6 करोड़ रुपये की कमाई की थी। हिंदी फिल्म 'ठग्स ऑफ हिंदुस्तान' में हिंदी सिनेमा के सबसे बड़े सितारे अमिताभ बच्चन और आमिर खान ने अहम किरदार निभाया था।

बेशक, 'ठग्स ऑफ हिंदुस्तान' शुरू में इसके स्टार कॉस्ट के कारण सफल होती नजर आई लेकिन बाद यह फिल्म डूब गई।

तो ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि हिंदी फिल्म उद्योग में अब क्या परेशानी है, इसके निर्माताओं के पास क्या कमी है? हिंदी फिल्मों में सब कुछ की कमी है जिस पर दक्षिण की फिल्में भारी पड़ रही हैं। इसका एक कारण है कि दर्शक, जो सितारों से फिल्म निर्माता बने हीरो को हल्के में ले रहे हैं। जैसे सलमान खान ने क्षिण रीमेक 'वांटेड' के साथ वापसी की। इसके बाद उनकी फिल्में 'बॉडीगार्ड', 'रेडी' और 'किक' ये सभी दक्षिण की रीमेक रहीं और इसे बनाने में कोई बदलाव नहीं किया गया और ये फिल्में हिट साबित हुई।

इन फिल्मों ने सलमान खान को फिर से सुर्खियों में ला दिया। वह अपने दम पर फिल्म को आगे बढ़ाने के लिए काफी है। 'दबंग', 'बजरंगी भाईजान', 'सुल्तान' और 'टाइगर जिंदा है' को उनकी नई एक्शन इमेज से ज्यादा फायदा हुआ।

लेकिन तब यह माना जाने लगा था कि दर्शक सिर्फ सलमान खान को ही चाहते हैं। इसके बाद सलमान खान की 'ट्यूबलाइट' फिल्म आई, जिसमें उन्होंने मानसिक रूप से अक्षम व्यक्ति की भूमिका निभाई, जो 1962 के भारत-चीन युद्ध से लापता अपने भाई की खोज करता है। यह एक ऐसा युद्ध है जिसे कोई याद नहीं रखना चाहता। ये फिल्म एक अमेरिकी फिल्म 'लिटिल बॉय' का रिमेक थी, जिसमें एक लड़का अपने पिता की तलाश करता है, जो द्वितीय विश्व युद्ध में लड़ाई पर जाने के बाद से लापता हो गए थे।

क्या सलमान खान मानसिक रूप से अक्षम वयस्क की भूमिका अमेरिकी फिल्म में युवा लड़के की तरह कर रहे थे? जाहिर है, ऐसा नहीं था। साथ ही इसमें स्क्रीन को 'रेडी' या 'बॉडीगार्ड' के रूप में भरने के लिए साइड एक्टर्स की कमी थी।

इसके बाद दर्शकों के लिए सलमान खान के होम प्रोडक्शन में बनी 'राधे' फिल्म रिलीज की गई, जो दक्षिण कोरिया की फिल्म 'द आउटलॉज' की रीमेक थी। इस फिल्म की कोई स्टोरीलाइन नहीं थी।

एक विलेन मुंबई आकर अंडरवल्र्ड को अपने कब्जे में ले लेता है। क्या दुनिया में कहीं भी अंडरवल्र्ड को नियंत्रित करना इतना आसान है? ऐसा लग रहा था कि यह फिल्म सलमान की पिछली फिल्मों से हटाए गए एक्शन सीन्स के टुकड़ों को एक साथ रखकर बनाई गई है।

ये दोनों ही रीमेक 'द लिटिल बॉय' ( विफल) और 'द आउटलॉज' बर्दाश्त करने वाली फिल्में नहीं थी!

जहां तक शाहरुख खान की बात है, तो उन्हें भी उसी समस्या का सामना करना पड़ा, जो आखिरकार उन सभी अभिनेताओं को होती है जिनका करियर रोमांटिक फिल्मों पर बना होता है। उन्होंने 'जब हैरी मेट सेजल', 'जीरो' और 'डियर जिंदगी' जैसी फिल्मों के साथ काम करना जारी रखा लेकिन जब उन्होंने 'रा.वन' (एक सुपरहीरो पर आधारित फिल्म), 'फैन' या 'रईस' जैसी फिल्मों में कुछ अलग करने की कोशिश की तो ये फिल्में उनका किरदार बदलने में नाकाम रहीं।

अक्षय कुमार विभिन्न विषयों पर आधारित फिल्में बनाकर लीक से हटकर काम कर रहे थे तो सब ठीक चल रहा था। उनके काम के साथ उनके फैंस की संख्या में इजाफा हो रहा था। वह राष्ट्रवादी विषयों पर आधारित फिल्में 'बेबी', 'केसरी', 'मिशन मंगल', 'गोल्ड' और 'हॉलिडे: ए सोल्जर इज नेवर ऑफ ड्यूटी', 'पैडमैन' और 'टॉयलेट: एक प्रेम कथा' कर रहे थे। इन फिल्मों को करने के साथ ही वह सरकार के एजेंडे का प्रचार भी कर रहे थे।

उन्हें सभी अच्छे काम करने के लिए भी लोग जान रहे थे। अब तक सब ठीक था लेकिन उन्हें उनके ओवरएक्सपोजर के कारण मात खानी पड़ी। उन्होंने साल में 4 फिल्में की, जिसमें 'लक्ष्मी', 'बेलबॉटम', 'सूर्यवंशी' और 'बच्चन पांडे' शामिल हैं।

आमिर खान ने बहुत सारी फिल्मों को अपने कंधों पर नहीं ले जाने के बावजूद 'सीक्रेट सुपरस्टार' और 'दंगल' जैसी फिल्मों के केंद्र में रहने में समझदारी की है। वह ज्यादा स्क्रिप्ट सेंस दिखाते हैं और अपने एक्सपोजर को सीमित रखते हैं।

नए अभिनेताओं में आयुष्मान खुराना, सिद्धार्थ मल्होत्रा, कार्तिक आर्यन, विक्की कौशल, राजकुमार राव और टाइगर श्रॉफ शामिल हैं जो मनोरंजन वाली फिल्में लेकर आ रहे हैं, लेकिन अब तक कोई भी सुपरस्टारडम नहीं हुई है। उनकी बॉक्स ऑफिस क्षमता सीमित है। शाहिद कपूर, रणबीर कपूर और वरुण धवन लंबे समय से साथ हैं और अभी भी सुपरस्टारडम के साथ अपनी कोशिश करने का इंतजार कर रहे हैं।

'पैसा वसूल' 1970 और 80 के दशक में अक्सर फिल्मों के बारे में इस्तेमाल किया जाने वाला एक मुहावरा था। ये धर्मेद्र, जीतेंद्र, राजेश खन्ना, अमिताभ बच्चन और उसके बाद की अभिनीत फिल्मों के लिए भी इस्तेमाल किया जा रहा था। ऋषि कपूर और मिथुन चक्रवर्ती भी इस विवरण में फिट बैठते हैं। उन्होंने दर्शकों को भरपूर मनोरंजन दिया, जिसमें रोमांस, ड्रामा, कॉमेडी और एक्शन का संतुलन शामिल था, लेकिन सबसे बढ़कर उन्होंने ऐसे गाने किए, जिसने फिल्म की संभावनाओं को पकड़ कर मदद की। सीधे शब्दों में कहें तो ये फिल्में अच्छी थीं।

हिंदी फिल्मों ने अपने दर्शकों को खोना शुरू कर दिया जब से उन्होंने भारतीय मूल्यों से चिपके रहने के बजाय पश्चिमी रुझानों से मेल खाने की कोशिश की है। स्थानों को सही ठहराने के लिए उन्हें थीम के आसपास विदेशों में शूट किया गया। दर्शकों ने उन्हें उनके स्वाद के लिए विदेशी पाया और इससे क्षेत्रीय भाषा की फिल्मों का उदय हुआ।

अब मल्टीप्लेक्स में प्रवेश दरों के समान होने के कारण हाल की हिंदी फिल्मों में 'पैसा वसूल' की कमी होती जा रही है, जिसमें उनके सीमित कलाकार हैं और सितारे हर फिल्म में एक सेट किरदार पर टिके रहना पसंद करते हैं।

उनकी ओर से, दक्षिण की फिल्में भारतीय संस्कृति, पारिवारिक मूल्यों और विश्वासों पर टिकी रहीं और उनमें राष्ट्रवाद की भावना का संचार हुआ। शायद ही कोई ऐसा नायक हो जो किसी उद्देश्य के लिए नहीं लड़ रहा हो। चाहे वह पारिवारिक सम्मान हो, अन्याय हो या राजनीतिक भ्रष्टाचार।

नायक दर्शक का प्रतिनिधित्व करता था, नायक वह सब कर रहा है, जो दर्शक चाहते हैं। गाओ, नाचो, रोमांस करो, खलनायक के साथ बराबरी करो और लड़ो। हिंदी फिल्मों का अंत अमिताभ बच्चन और सनी देओल की फिल्मों के साथ हुआ, जब 1980 के दशक में ग्रामीण भारत में सेट की गई फिल्में बनना बंद हो गई। आखिरी बार कब किसी हिंदी फिल्म के हीरो ने धोती पहनी थी? मैं 1980 के दशक में अमिताभ बच्चन और मिथुन चक्रवर्ती के बाद किसी के बारे में नहीं सोच सकता।

दक्षिण फिल्मों के लेखक यह सुनिश्चित करते हैं कि कहानी के आगे बढ़ने पर पर्दे पर एक रोमांस विकसित हो। एक कहानी कभी प्रस्तुत नहीं की जाती है क्योंकि यह नायक है और यह नायिका है और वे एक जोड़े के रूप में फिल्म में हैं। महिला को हमेशा पारंपरिक तरीके से प्रस्तुत किया जाता है (जब गायन और नृत्य नहीं किया जाता है), खासकर पारिवारिक दृश्यों में ऐसे किया जाता है।

दरअसल, वे एक साधारण अभिनेत्री को काफी हद तक उस 'मॉडल महिला' की तरह बना देती हैं, जिसे 'चंदामामा' जैसी लोकप्रिय पत्रिकाओं में मूर्तिमान किया जाता था या पौराणिक नायिकाओं की छवि में ढाला जाता था। एक दक्षिण फिल्म में इतने सारे पात्र होते हैं कि हर दर्शक किसी को पहचानता है। चाहे वह मां हो, पिता हो, बहन हो या दोस्त हो।

और, सबसे बढ़कर, नायक की छवि महत्वपूर्ण नहीं है, उसका चरित्र है। जैसे 'पुष्पा: द राइजिंग' को लें। ग्लैमर कहीं नहीं। 'श्रीवल्ली' गाने के उन डांस स्टेप्स को किरदार के लिए कोरियोग्राफ किया गया है न कि स्टार के लिए और बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी इसे करने की कोशिश कर रहे हैं। इससे एक ट्रेंडसेटिंग हुई है।

मुझे याद नहीं कि कब एक व्यावसायिक हिंदी फिल्म ने इतना क्रेज पैदा कर दिया। जब एक दक्षिण अभिनेता 30-40 गुंडों के गिरोह को मारता है, तो वह अपने चारों ओर एक सीन बनाता है, जिससे लोग आश्वस्त होते हैं।

ब्रिटिश राज विरोधी फिल्म 'आरआरआर' इतनी हिट या उस मामले के लिए 'केजीएफ: चैप्टर 2' किस वजह से बनी? उन्होंने काम किया क्योंकि इन फिल्मों में वे सभी कंटेंट हैं जिनसे भारतीय दर्शकों की पहचान होती है। फिर वे उसमें भीड़, भव्यता को भी साथ जोड़ते हैं।

एक फिल्म के नायक को एक निश्चित शैली या लुक दिया जाता है जिसे उसके प्रशंसक देखते हैं और फिर उसकी नकल करते रहते हैं। बहुत कम हिंदी फिल्मी सितारों को उस तरह के फॉलोअर्स मिलते हैं। ऐसा देव आनंद, राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन ने भी किया।

दक्षिण के फिल्म निर्माता अब अपनी फिल्मों में कुछ हिंदी अभिनेताओं को शामिल कर रहे हैं। 'आरआरआर' में आलिया भट्ट और अजय देवगन हैं। 'केजीएफ: चैप्टर 2' में संजय दत्त और रवीना टंडन हैं। वे हिंदी दर्शकों के लिए जाने-पहचाने चेहरे हैं और एक फिल्म की राष्ट्रीय अपील को बढ़ाने में मदद करते हैं।

पूर्व में हिंदी फिल्म निर्माता स्टार कास्ट में रजनीकांत या कमल हासन जैसे दक्षिणी नायक को जोड़ते थे क्योंकि दक्षिण में हिंदी फिल्मों के लिए कोई बाजार नहीं था। दक्षिण के सितारों को जोड़ने की इस चाल ने एक फिल्म को बेचने में मदद की। इसने दक्षिण में इसकी स्वीकृति को आसान बना दिया।

क्या हिंदी फिल्म उद्योग जल्द ही कभी पुनर्जीवित होगा? कम संभावना है। निकट भविष्य में नहीं। 50 के दशक में इन दिनांकित नायकों के साथ नहीं, सुपरस्टारडम के वादे के साथ कोई नया अभिनेता नहीं। और तब तक नहीं जब तक प्रतिभाशाली लेखक नहीं मिल जाते। अब तक वे दक्षिण की रीमेक, 'बच्चन पांडे' और 'जर्सी' से भी गड़बड़ कर रहे हैं।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-South films nationally successful, Hindi films fail
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: kgf chapter 2, rrr, south films nationally successful, hindi films fail, bollywood news in hindi, bollywood gossip, bollywood hindi news
Khaskhabar.com Facebook Page:

बॉलीवुड

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved