• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 5

‘भाषा’ के पुनरूत्थान के लिए जरूरत है हिन्दी मीडियम जैसी फिल्मों की

वर्ष में केवल 52 सप्ताह होते हैं और प्रदर्शित फिल्में होती हैं एक सौ अस्सी। ऐसे में कहीं ना कहीं कोई न कोई तो टकराव होगा ही। हर सप्ताह दो बडे सितारों की फिल्मों का टकराव होता है जीत सितारों की नहीं वरन् फिल्म के कंटेंट की होती है, जो अच्छा होता है वहीं पसन्द किया जाता है। हाल ही में बॉक्स ऑफिस पर दो फिल्मों हिन्दी मीडियम और हॉफ गर्लफ्रेंड का प्रदर्शन हुआ था। दोनों फिल्मों के सितारों की लोकप्रियता का पैमाना अलग-अलग है ऐसे में लग रहा था कि इरफान खान की फिल्म हल्की रहेगी लेकिन जिस तरह से उसने बॉक्स ऑफिस पर सफलता प्राप्त की है, उसने इस बात को पुरजोर तरीके से सिद्ध किया है कि फिल्म के सितारों से ज्यादा अहमियत फिल्म के कंटेंट की है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Need for the revival of ‘language’ films like Hindi medium
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: need for the revival of ‘language’ films like hindi medium, bollywood news in hindi, bollywood gossip, bollywood hindi news
Khaskhabar.com Facebook Page:

बॉलीवुड

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved