Warning: strtotime() [function.strtotime]: It is not safe to rely on the system's timezone settings. You are *required* to use the date.timezone setting or the date_default_timezone_set() function. In case you used any of those methods and you are still getting this warning, you most likely misspelled the timezone identifier. We selected 'Asia/Calcutta' for 'IST/5.0/no DST' instead in /home/khaskhab/public_html/newsinner/daily-news-parts.php on line 118

Warning: date() [function.date]: It is not safe to rely on the system's timezone settings. You are *required* to use the date.timezone setting or the date_default_timezone_set() function. In case you used any of those methods and you are still getting this warning, you most likely misspelled the timezone identifier. We selected 'Asia/Calcutta' for 'IST/5.0/no DST' instead in /home/khaskhab/public_html/newsinner/daily-news-parts.php on line 118
बच्चों में सेक्स को बढ़ावा दे रही है सोश्यल नेटवर्किग साईट social networking sites

Masti Masala News

बच्चों में सेक्स को बढ़ावा दे रही है सोश्यल नेटवर्किग साईट

बच्चों  में सेक्स को बढ़ावा दे रही है सोश्यल नेटवर्किग साईट

source :
published: 20/05/2011 | 13:59:00 IST

नई दिल्ली। अमेरिका में सोशल नेटवकिंüग साइट को लेकर हुई एक रिसर्च ने बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर अभिभावकों के कान ख़डे कर दिए है।
हाल ही में हुई एक स्टडी में अमेरिका के हेल्थ एक्सपर्ट ने आरोप लगाया कि फेसबुक और उसके जैसी कई सोशल नेटवकिंग साइटों केस्मिक सेक्स के मामले बढ़ गए हैं। रिपोर्ट में सुझाव दिया ग वजह से आकया कि युवाओं में यौन संबंधी बीमारियों की वृद्धि के लिए सोशल नेटवकिंüग वेबसाइटों को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।
स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने अमेरिका में हाल ही में एक स्ट़डी में कहा ऑनलाइन सोशल नेटवकिंüग के माध्यम से लोग बिना सेक्सुअल जानकारियों के आसानी से कई लोगों के साथ संबंध बना रहे हैं। एक महिला टेरेसा गुविन ने कहा कि वह अपने बेटे की ऑनलाइन हरकतों पर नजर रखती है, लेकिन उन्हें पता नहीं है कि सामाजिक नेटवकिंग वेबसाइटों का उपयोग करने से ऎसा भी हो सकता है। फ्लोरिडा सेमिनोल काउंटी स्वास्थ्य विभाग (एससीएचडी) के अनुसार, पिछले साल के भीतर सिपलिज बीमारी के 200 प्रतिशत मामले बढ़ गए है। विशेषज्ञ क्लैमाइडिया का कहना है कि हर साल इस बीमारी के 3 से 4 मिलियन नए मामले सामने आ रहे है। हर छह में से एक या 16 प्रतिशत अमेरिकी दाद से बीमारी से पीç़डत है। जबकि 90 प्रतिशत इस बात से अनजान हैं। वहीं स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि इनमें से ज्यादातर की रोगियों उम्र 14 साल से 24 साल है।



Latest In News

PRNews