वाराणसी में सोलर रुफटॉप से 676 मेगावाट बिजली पैदा करने की क्षमता

www.khaskhabar.com | Published : शनिवार, 20 मई 2017, 10:25 PM (IST)

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी ने अकेले सोलर रूफटॉप पैनल से 676 मेगावाट बिजली पैदा करने की क्षमता है। हालांकि पुराने ग्रिड और लाइन लॉस एक बड़ी चुनौती है। एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के कुलपति गिरीश चंद्र त्रिपाठी द्वारा यहां जारी पर्यावरण और ऊर्जा विकास केंद्र (सीईईडी) की रिपोर्ट वाइब्रेंट वाराणसी, ट्रांसफोरमेशन थ्रू सोलर रूफटॉप में इस ऐतिहासिक शहर के लिए साल 2025 तक 300 मेगावॉट बिजली उत्पादन का रोडमैप प्रस्तुत किया गया।

सीईईडी के कार्यक्रम निदेशक और रिपोर्ट के मुख्य लेखक अभिषेक प्रताप ने आईएएनएस को बताया, "वाराणसी की मान्य क्षमता 676 मेगावॉट पैदा करने की है जिसे कुल उपलब्ध छतों के केवल 8.7 फीसदी के इस्तेमाल से ही यह क्षमता हासिल की जा सकती है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

हालांकि यहां वितरण हानि 40-42 फीसदी है, जबकि राष्ट्रीय औसत 24 फीसदी है। इसलिए पूर्वाचल विद्युत वितरण निगम लि. के अप्रभावी ग्रिड अपनी पूर्ण क्षमता के उपयोग साल 2032 तक कर पाएगी।"

प्रताप ने कहा कि वाराणसी का वर्तमान में बिजली की सालाना मांग 861 मेगावॉट है, जो शहर के विस्तार के कारण साल 2025 तक 1700 मेगावॉट हो जाएगी।

-आईएएनएस

यह भी पढ़े : धुंध से परेशान हैं, हिमाचल की पहाडियों का रूख करें