1 of 2

Exclusive: आखिर क्या कहता है सपा का संविधान

उमाकांत त्रिपाठी
सपा के संविधान के सेक्शन 14 के सब-क्लॉज 2 के अनुसार पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन केवल पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बुला सकते हैं। पार्टी अध्यक्ष ये अधिवेशन राष्ट्रीय कार्यकारिणी के प्रस्ताव पर या 40 प्रतिशत राष्ट्रीय प्रतिनिधियों की मांग पर बुला सकते हैं। सेक्शन 14 के सब-क्लॉज 4 के अनुसार राष्ट्रीय अधिवेशन में लिए गए फैसले पर चुने हुए या नामित प्रतिनिधियों द्वारा आपत्ति जताए जाने पर राष्ट्रीय अध्यक्ष का फैसला आखिरी होगा। सपा के संविधान के अनुसार राष्ट्रीय अध्यक्ष के फैसले को किसी भी अदालत में चुनौती नहीं दी जा सकती।

सपा के संविधान के सेक्शन 15 के अनुसार राष्ट्रीय कार्यकारिणी के अध्यक्ष राष्ट्रीय और विशेष अधिवेशनों की अध्यक्षता करेंगे। इसी सेक्शन के एक सब-क्लॉज के अनुसार राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुशासनहीनता के आरोप में किसी पर कार्रवाई कर सकते हैं। इस फैसले को भी अदालत में चुनौती नहीं दी जा सकती।

सूत्रों के अनुसार इन नियमों के तहत ही मुलायम का धड़ा चुनाव आयोग में ये साबित करने की कोशिश करेगा कि रविवार (एक जनवरी) को बुलाया गया सपा का राष्ट्रीय अधिवेशन नियम विरुद्ध था।

[@ साल 2016 में गूगल पर सबसे ज्यादा सर्च हुए टाॅप 10 टाॅपिक्स]

यह भी पढ़े

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:what does samajwadi party constitution says
(News in Hindi खास खबर पर)
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement

प्रमुख खबरे

आपका राज्य
Advertisement

राष्ट्रीय खबर

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope