• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
  • Results
Advertisement
Advertisement
1 of 1

हिमाचल: 2016 में वीरभद्र मामला, युग हत्याकाण्ड, केएनएच प्रकरण और भारत-पाक मैच ने बटोरी सुर्खियां

Virbhadra case in 2016, the era killings, Keanac episode garnered headlines and the Indo-Pak match - News in Hindi

शिमला। हिमाचल प्रदेश इस साल मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के आय से अधिक संपति मामले, युग हत्याकांण्ड, केएनएच बच्चा बदली प्रकरण, भारत-पाक मैच, अग्निकांडों, नरेंद्र मोदी तथा राहुल गांधी के प्रदेश दौरों के कारण चर्चा में रहा। साल भर मुख्यमंत्री आय से अधिक संपति के अदालती मामले में घिरे रहे। केंद्रीय जांच एजेंसियों ईडी व सीबीआई ने दिल्ली बुलाकर उनसे पूछताछ भी की। उनके दिल्ली दौरों को विपक्षी भाजपा ने मुद्दा बनाते हुए सदन के अंदर-बाहर जमकर हंगामा किया। 2016 का अंत आते-आते उनको एक और झटका लगा, जब उनकी आयकर के मामले में टिब्यूनल चंडीगढ़ के निर्णय के विरूद्ध की गई अपील को प्रदेश हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया।
बजट सत्र से लेकर धर्मशाला में हाल ही में खत्म हुए शीतकालीन सत्र में भाजपा ने वीरभद्र मामले पर कई बार सदन से वॉकआउट किया। शीत सत्र में भाजपा के तीन विधायकों सुरेश भारद्वाज, राजीव बिंदल और रणधीर शर्मा का निलंबन भी खूब चर्चा में आया। अन्य राजनीतिक घटनाक्रमों में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा के हिमाचल दौरे तथा स्वास्थ्य समेत अन्य क्षेत्रों में प्रदेश को केंद्र से मिली सौगातें पूरा साल चर्चा में रहीं। पहली बार हिमाचल को 64 नेशनल हाईवे केंद्र ने दिए तथा राजनीतिक मंच पर इसका श्रेय नड्डा को मिला। इसी साल हिमाचल लोकहित पार्टी के अध्यक्ष तथा अकेले विधायक महेश्वर सिंह की चार साल बाद पुरानी पार्टी भाजपा में वापसी हुई लेकिन महेश्वर सिंह जो वीरभद्र सिंह के शाही परिवारिक रिश्तों के जुड़े रहे हैं, का उससे कुल्लू के रघुनाथ मंदिर के सरकारीकरण किए जाने के बाद उनके रिश्ते कटु हो गए हैं। अब रघुनाथ मंदिर के सरकारीकरण का मामला प्रदेश हाईकोर्ट में विचाराधीन है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जहां अक्तूबर माह में मण्डी में रैली कर तीन बिजली परियोजनाएं प्रदेश को समर्पित कर चुनावी बिगुल फूंका, वहीं इसका जवाब कांग्रेस ने धर्मशाला में सरकार के चार साल पूरा होने के उपलक्ष्य में राहुल गांधी की रैली से दिया। भाजपा ने इस साल भी राज्य सरकार के खिलाफ 74 पन्नों की चार्जशीट राज्यपाल को सौंपकर सियासी पारे को और गरमा दिया। प्रदेश में सताधारी कांग्रेस की कई मौकों पर हुई गुटबंदी ने भी खूब सुर्खियां बटोरी। सुक्खू व वीरभद्र के बीच कई बार विरोधाभास भरी बयानबाजी सामने आई, जिससे सरकार व संगठन के बीच खींचतान उजागर हुई। कांग्रेस के लिए.. खुशी की बात यह रही कि धर्मशाला नगर निगम चुनाव में उसे एकतरफा जीत हासिल हुई। इसी साल बीसीसीआई अध्यक्ष पर अनुराग ठाकुर की ताजपोशी प्रदेश के लिए गौरवपूर्व रही लेकिन अगस्त मास में धर्मशाला में खेले जाने वाले भारत-पाक एक दिवसीय मैच के रद्द होने से राजनीतिक पारा खूब गर्माया। दरअसल सताधारी कांग्रेस सरकार इस मैच की सुरक्षा मुहैया करवाने पर गंभीर नहीं थी, लिहाजा आईसीसी ने विवाद के चलते मैच को रद्द कर दिया।
वर्ष 2016 में कुछ ऐसी अन्य घटनाएं घटी, जिन्हें सूबे को हिलाकर रख दिया। इनमें कुछ का जिक्र किया जाए, तो उनमें चार वर्षीय बच्चे युग गुप्ता के अपहरण के दो वर्ष बाद उसकी लाश पानी के टैंक में मिलने से एक अति अमानवीय घटना का उजागर होना शामिल है। अपहरण करने वालों में युग परिवार के पड़ोसी कथित रूप से सम्मिलत पाए गए, जो फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं। शिमला में एक अन्य बेहद शार्मिक घटना प्रदेश के एकमात्र मातृशिशु अस्पताल में सामने आई। यहां अस्पताल प्रबंधन की घोर लापरवाही की वजह से जन्म के बाद दो नवजात बच्चे बदल दिए गए। बाद में पांच माह बाद हाईकोर्ट की दखल के बाद डीएनस परीक्षण में मामला सुलझा और दोनों नवजातों को उनके असली माता-पिता मिले। हर साल की तरह इस बार भी प्रदेश में घटित सड़क हादसों ने सैंकड़ों जानें लीं। मण्डी, शिमला, चंबा और सिरमौर जिलों में सबसे अधिक हादसे हुए।
अग्निकांडों का सिलसिला साल भर चलता रहा। समर सीजन में सूबे के करीब 5 हजार हैक्टयेर क्षेत्र जंगल आग से स्वाहा हो गए। विंटर सीजन तक यह सिलसिला चलता रहा। कुल्लू जिले का एक गांव आग से पूरा स्वाह हो गया। 2016 में प्रदेश के कुछ क्षेत्रों विशेषकर शिमला तथा आसपास के इलाकों में बंदरों के आतंक की समस्या वैसी की वैसी रही। हालांकि केंद्र ने कुछ क्षेत्रों में बंदरों को मानव जीवन के लिए खतरा घोषित कर दिया और उन्हें मारने की अनुमति भी दी लेकिन इसके बावजूद किसी भी किसान या प्रभावित व्यक्ति ने एक भी बंदर को नहीं मारा। बंदरों की आबादी कम करने के लिए सरकार ने कई उपाय किए जिनमें पूर्वी राज्यों को बंदरों के आयात करने का फैसला लिया गया लेकिन यह प्रस्ताव भी सिरे नहीं चढ़ा।

[@ छेड़छाड़ का विरोध करने पर महिला को सरेआम पीटा, वीडियो वायरल]

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:Virbhadra case in 2016, the era killings, Keanac episode garnered headlines and the Indo-Pak match
(News in Hindi खास खबर पर)
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
स्थानीय ख़बरें

हिमाचल प्रदेश से

Advertisement

प्रमुख खबरे

आपका राज्य
Advertisement

राष्ट्रीय खबर

Traffic

Advertisement

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Advertisement
Copyright © 2017 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved