1 of 4

भारत बंदी का कानपुर में नहीं दिखा असर, बाजारों में खुली दुकानें

The effect of India captive does not show in Kanpur - News in Hindi

कानपुर। जनपद में भारत बंदी का असर फीका रहा। बाजारों में रोजना की तरह रौनक दिखी और दुकानदार प्रधानमंत्री का समर्थन करते दिखे। वहीं दुकानें बंद कराने पहुंच रहे विपक्षी दलों को दुकानदारों से मुहं की खानी पड़ रही है। सोमवार को 500 व एक हजार के नोट बंदी के विरोध में विपक्षी दलों द्वारा भारत बंद का एलान किया गया था।
विपक्षी दलों के बंदी समर्थन का जिले में कोई खास असर नहीं देखा गया। सुबह बाजारों में नियमित समय से दुकानें खुली और कामकाज होता रहा। शहर की हार्ड ऑफ दि इलाकों में कहा जाने वाला बिरहाना रोड, नयागंज, जनरलगंज के अलावा लाल बंगला, गुमटी, पीरोड, रावतपुर, कल्याणपुर, आईआईटी मार्केट, किदवई नगर, बर्रा, जरौली, गोविन्द नगर में शादी की सहालग के चलते लोगों को खरीददारी करते देखा गया।
हालांकि की बाजार खुले होने की जानकारी पर बंदी का समर्थन कराने पहुंचे कुछ वाम दलों के कार्यकर्ताओं को बाजार एसोसिएशन का विरोध के साथ उन्हें बैकफुट पर आना पड़ रहा है।
पैसे की मजबूरी में करवा रहे हैं नसबंदी ! पढ़े पूरा मामला
और पढ़े...

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:The effect of India captive does not show in Kanpur
(News in Hindi खास खबर पर)
loading...
Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें
Advertisement

उत्तर प्रदेश से

सर्वाधिक पढ़ी गई

प्रमुख खबरे

Advertisement

राष्ट्रीय खबर

Traffic

Advertisement

जीवन मंत्र

Daily Horoscope