1 of 2

Punjab election 2017- जूता किसी के लिए अभिशाप, किसी के लिए वरदान

बलवंत तक्षक
चंडीगढ़। जूते की अजीब माया है। जूता राजनीति में कब क्या करा दें, कहना मुश्किल है। क्या आप मान सकते हैं कि जूता किसी के लिए अभिशाप तो किसी के लिए वरदान साबित हो सकता है? जूता किसी की टिकट कटवा सकता है तो जूता किसी को टिकट दिलवा भी सकता है। जूता किसी विधायक को सदन से सडक़ पर ला सकता है तो जूते की वजह से सडक़ पर आया कोई व्यक्ति विधायक बन सदन में भी पहुंच सकता है। जूता जैसा भी हो, उसकी महिमा अपार है।

पंजाब विधानसभा सत्र के दौरान कांग्रेस के विधायक तरलोचन सिंह सूंढ़ को सदन में जूता फेंकना बड़ा महंगा पड़ा है। सूंढ़ ने किसी बात पर नाराज हो कर उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल पर जूता फेंक दिया था। सूंढ़ का निशाना ठीक नहीं रहा और जूता उछल कर दूसरी तरफ कैबिनेट मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया के पास जा गिरा। सदन में इस मुद्दे को लेकर काफी देर तक हो-हल्ले की स्थिति रही और अपने किए के लिए उन्हें विरोधियों की कड़ी आलोचना का भी सामना करना पड़ा। विधानसभा चुनावों के लिए टिकट वितरण के दौरान कांग्रेस ने तरलोचन सिंह को मैदान में उतारने से इनकार कर दिया है।

[@ Exclusive- दंगल से जगा हरियाणा में उम्मीदों का मंगल]

यह भी पढ़े

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:Shoes cursp for someone and blessing for someone
(News in Hindi खास खबर पर)
Advertisement
Khaskhabar Punjab Facebook Page:
Advertisement
स्थानीय ख़बरें

पंजाब से

Advertisement

प्रमुख खबरे

आपका राज्य
Advertisement

राष्ट्रीय खबर

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope