1 of 1

Punjab jail break: ‘मालिक भी हैरान है बदमाशों को कैसे मिला नंबर’

Owner is suprize how the punk got the number - News in Hindi

हिसार। नाभा जेल से आतंकी और गैंगस्टर को भागने में प्रयोग की गई फॉरच्यूनर गाड़ी पर हिसार की जिस बाइक नंबर की प्लेट लगी थी, वह दिनभर शहर में हर रोज की तरह घूमी। न तो पुलिस ने उसे रोका और न ही उससे किसी तरह की कोई पूछताछ की गई। वहीं बाइक स्वामी संदीप का कहना है कि वह कभी हिसार से बाहर बाइक पर नहीं गया, मगर पता नहीं बदमाशों को बाइक का नंबर कहां से मिला। आजाद नगर निवासी और नागरिक अस्पताल में कार्यरत संदीप ने बताया कि उसने दो साल पहले बाइक खरीदी थी। बस तभी से यह बाइक या तो उनके पास रहती है या फिर उनके भाई के पास होती है। उन्होंने कभी यह बाइक किसी व्यक्ति को नहीं दी। वे हैरत में हैं कि उनकी बाइक का नंबर बदमाशों के पास कैसे पहुंचा।








आटो चालक को बैंक ने एक दिन में बनाया अरबपति

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:Owner is suprize how the punk got the number
(News in Hindi खास खबर पर)
loading...
Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें
Advertisement

हरियाणा से

सर्वाधिक पढ़ी गई

प्रमुख खबरे

Advertisement

राष्ट्रीय खबर

Traffic

Advertisement

जीवन मंत्र

Daily Horoscope