1 of 2

भारतीयता की पहचान हैं त्योहार , नारी है शान

बीकानेर। त्योहार भारतीयता की पहचान है, तो उसकी शान हैं नारी। नारी ने ही दुनिया भर में भारतीय सभ्यता और संस्कृति को जीवित रखा है। आज की युवा पीढ़ी को त्योहारों के पीछे प्रचलित रीति-रिवाजों और परम्पराओं की सही जानकारी देनी चाहिए। ये उद्गार कादम्बिनी क्लब द्वारा ‘भारतीय त्योहारों में महिलाओं की भूमिका’ विषय पर आयोजित विचार गोष्ठी में वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. उषाकिरण सोनी ने व्यक्त किए। गोष्ठी का विषय प्रवर्तन करते हुए कादम्बिनी क्लब के संयोजक प्रो. डॉ. अजय जोशी ने कहा कि यदि महिलाएं हैं तो त्योहार है, और यदि त्योहार हंै तो वे महिलाओं की सक्रिय भागीदारी के बिना संभव ही नहीं हैं। कवियत्री, कथाकार और महारानी कॉलेज की वरिष्ठ संकाय सदस्य डॉ. संजू श्रीमाली ने कहा कि त्योहार हमारे मन उत्साह और उमंग का संचार करते हैं। इसकी संवाहक नारी ही है। गोष्ठी में शिक्षाविद् मोहनलाल जांगिड़ ने कहा कि भारतीय नारी की बच्चों को संस्कारित करने में महती भूमिका है।

उत्सवधर्मिता स्वाभाविक गुण


यह भी पढ़े

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:festival are the hallmarks of the India
(News in Hindi खास खबर पर)
Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
स्थानीय ख़बरें
Advertisement
Advertisement

राजस्थान से

Advertisement

प्रमुख खबरे

आपका राज्य
Advertisement

राष्ट्रीय खबर

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

# भरतपुर। भरतपुर में सबसे बुजुर्ग महिला का हुआ निधन, 104 वर्ष की थीं बुजुर्ग महिला, सिमको के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी जगवीर सिंह की मां हंै बुजुर्ग महिला। निधन पर छाया शोक। बीसूका उपाध्यक्ष डॉ. दिगम्बर सिंह के करीबी हैं जगवीर सिंह