1 of 1

दशहरा पर्व की तैयारियां हुई शुरू

Dussehra festival has started preparations - News in Hindi

पानीपत। वैसे तो दशहरा पर्व देश के हर शहर और कस्बे में धूमधाम से मनाया जाता है। लेकिन पानीपत में इसे मनाने का ढंग बिल्कुल अलग और आस्था से परिपूर्ण है। एक ओर जंहा दूसरे स्थानों में पर दहशरे पर्व पर भगवान राम में ज्यादा आस्था दिखाई देती है। वहीं पानीपत में भगवान राम के साथ पवनपुत्र हनुमान के महत्व को भी नहीं भूला गया है। पानीपत में इस पर्व से 41 दिन पहले ही धूमधाम दिखाई देनी शुरू हो जाती है। हनुमान भक्त 41 दिन पहले हनुमान के कठिन व्रत कर अपने इष्टदेव को मनाने की कोशिश में लग जाते हैं। इस दौरान 41 दिन तक नमक का भी सेवन नहीं किया जाता। साथ ही पूरे दिन में सिर्फ एक बार ही ही अन्न का प्रयोग किया जाता है। इसके बाद दषहरे के दिन हनुमान भक्त अपने सिर पर भारी भरकम सुन्दर हनुमान स्वरूप धारण करते हैं। जिस दौरान पूरे शरीर पर राम का मन मोह लेने वाला सिन्दूर लगाया जाता है। जिससे राम और राम भक्त हनुमान प्रसन्न होकर अपने भक्तों पर कृपा करें।
यह परम्परा पानीपत में कोई नई नहीं है। बल्कि विभाजन के बाद से चली आ रही है। दरअसल पाकिस्तान में हनुमान भक्त इसी तरह से दशहरे के मौके पर अपने इष्ट को मनाते थे। विभाजन के वक्त पाकिस्तान से आए हिन्दू परिवार वहां से हनुमान स्वरूप को अपने साथ ले आए थे और यहां भी उसी परम्परा को जारी रखे हुए हैं। पहले पानीपत में मात्र एक हनुमान का स्वरूप धारण किया जाता था। लेकिन वक्त के साथ आस्था बढ़ती गई और आज पानीपत में करीब 400 से 500 हनुमान स्वरूप धारण किए जाते हैं। जिससे पानीपत का दशहरा पर्व सभी दूसरे शहरों से अत्यन्त सुन्दर और मन को मोह लेने वाला होता है। इस पर्व को देखने और आनन्द लेने के लिए पानीपत में दूर-दूर के शहरों के लोग अपने रिश्तेदारों के यहां पहुंचते हैं।

Dussehra festival has started preparations


खास खबर की चटपटी खबरें, अब Facebook पर पाने के लिए लाईक करें...
loading...
Advertisement
स्थानीय ख़बरें
Advertisement

हरियाणा से

सर्वाधिक पढ़ी गई

प्रमुख खबरे

Advertisement
Advertisement

राष्ट्रीय खबर

Traffic

सर्वाधिक पढ़ी गई

Advertisement

जीवन मंत्र

Daily Horoscope