1 of 1

सिटी बस ने महिला को कुचला, मौके पर मौत

City bus crushed a woman, died on the spot - News in Hindi

उदयपुर। शहर के अंबामाता थाना क्षेत्र में मल्लातलाई आयुर्वेद चौराहे के पास मंगलवार दोपहर बस की टक्कर से स्कूटी सवार महिला की दर्दनाक मौत हो गई। हादसे का शिकार हुई संपत देवी पति हीरालाल टांक के साथ बाजार से खरीदारी कर घर लौट रही थी। हादसे में महिला के पति को भी चोटें आई हैं।
जानकारी के अनुसार मल्लातलाई आयुर्वेद चौराहे के निकट स्कूटी को पीछे से एक सिटी बस ने टक्कर मार दी। इससे पति उछलकर दूर जा गिरा, वहीं पत्नी बस के पिछले पहिये के नीचे आ गई। इससे महिला का शरीर क्षत-विक्षत हो गया। हादसे के बाद सिटी बस चालक भाग निकला। इधर, घटनास्थल पर भीड़ जमा हो गई। लोगों ने हीरालाल को संभाला और पुलिस को सूचना दी। मौके पर अंबामाता थाना पुलिस पहुंची। साथ ही महिला के क्षत-विक्षत शव को अस्पताल के मुर्दाघर में रखवाया गया। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। परिजनों ने बताया कि दंपती मूलरूप से उज्जैन निवासी थे और काफी सालों से उदयपुर में ही रह रहे थे। इस रोड पर पहले भी इस तरह दो हादसे और हो चुके हैं, जिनमें चौराहों पर तेज रफ्तार गाडिय़ों ने लोगों की जान ली है।

यह भी पढ़े

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:City bus crushed a woman, died on the spot
(News in Hindi खास खबर पर)
Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
स्थानीय ख़बरें
Advertisement
Advertisement

राजस्थान से

Advertisement

प्रमुख खबरे

आपका राज्य
Advertisement

राष्ट्रीय खबर

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

# बीकानेर - जिले की श्रीडूंगरगढ़ तहसील के सोनियासर की रोही स्थित एक झोपड़े में अचानक लगी आग # बीकानेर - लोगों ने अंदर सो रहे परिवार को बचाया, कुत्ता व तीन बकरियों की जलने से मौत, वृद्धा झुलसी # भरतपुर। इंडिका कार में लगी आग। पुलिस लाइन रोड पर एक चलती इंडिका कार में आग लग गयी। इस दुर्घटना में कोई जन हानि नहीं हुई लेकिन कार पूरी तरह से जल गई। # भरतपुर। अपनी मांगों को लेकर तहसीलदार, कानूनगो और पटवारी सहित सभी राजस्वकर्मी सामूहिक अवकाश पर, तहसील कार्यालय पड़ा सूना, नहीं हो रहा कामकाज, परिवादियों को हो रही परेशानी, कर्मचारियों ने तहसील कार्यालय पर किया प्रदर्शन व नारेबाजी। जिला कलक्ट्रेट का भू-अभिलेख कार्यालय भी सूना पड़ा रहा