1 of 2

किरोड़ी की हुंकार से प्रशासन सतर्क

cautious administration from Kirodi rally - News in Hindi

सवाई माधोपुर। बनास नदी में लीज होल्डरों सहित खनन माफियाओं द्वारा किए जा रहे बजरी के अवैध खनन सहित सरकार की गलत नीतियों के विरुद्ध 20 अक्टूबर को कलेक्ट्रेट का घेराव करेंगे। लालसोट विधायक डॉ. किरोड़ी लाल मीणा के ऐलान के बाद से ही प्रशासन सतर्क है। किरोड़ी की शंखनाद रैली को लेकर मंगलवार को भरतरपुर संभाग के संभागीय आयुक्त विकास सीताराम भाले एवं पुलिस निरीक्षक आलोक वशिष्ठ सवाईमाधोपुर पहुंचे। उन्होंने रैली स्थल का जायजा लिया और पुलिस अधीक्षक एवं जिला प्रशासन को आवश्यक तैयारी रखने के निर्देश दिए।
पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र सिंह ने बताया कि आने-जाने वाले लोगों के रूट तय कर दिए गए हैं। वहीं पार्किंग के लिए भी जगह तय कर दी है। जगह-जगह पुलिस बल तैनात किया जाएगा। रेंज स्तर और पुलिस मुख्यालय से अतिरिक्त जाप्ता बुलाया गया है। पुलिस के अनुसार रैली में करीब 20 हजार लोगों के जुटने का अनुमान है।

और पढ़े...

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:cautious administration from Kirodi rally
(News in Hindi खास खबर पर)
Advertisement
loading...
Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
स्थानीय ख़बरें
Advertisement
Advertisement

राजस्थान से

सर्वाधिक पढ़ी गई

प्रमुख खबरे

Advertisement

राष्ट्रीय खबर

Traffic

Advertisement

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

# भरतपुर। सांसद बहादुर कोली सडक़ दुर्घटना में हुए घायल। भरतपुर से दिल्ली जा रहे थे सांसद कोली। यमुना एक्सप्रेस वे पर हुई दुर्घटना। स्कॉर्पियो गाड़ी के टूटे शीशे। लोकसभा में भाग लेने जा रहे थे सांसद कोली। # झुंझुनूं। 13 हैड कांस्टेबलों को पदोन्नति पर चिह्न वितरित, एएसआई बनने पर एसपी एस.के. गुप्ता ने लगाए स्टार, वार्षिक परेड व क्यूआरटी टीम के डेमो का भी किया निरीक्षण, संपर्क सभा में जवानों ने एसपी के समक्ष रखी समस्याएं, इस साल अब तक 52 हैड कांस्टेबल बन चुके हंै एएसआई। # भरतपुर। भरतपुर के भाजपा कार्यकर्ताओं को मिली निराशा। 7 बोर्ड-निगमों में अध्यक्ष व 51 सदस्यों की नियुक्ति में भरतपुर जिले से एक भी कार्यकर्ता का नाम नहीं। नगर सुधार न्यास के अध्यक्ष पद पर भी अभी तक नियुक्ति नहीं होना चर्चा का विषय। भाजपा में गुटबाजी माना जा रहा कारण। आपसी खीचतान व चहेतों को पद दिलाने की मच रही होड़। कार्यकर्ताओं में दिखने लगी निराशा।