• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
  • Results
1 of 1

"एक नई सुबह"के प्रचार पर खर्चे 36 करोड

36 crore spent on advertisements on ek nai subah programme on completion of two years of modi govt - Delhi News in Hindi

नई दिल्ली। विज्ञापन पर खर्च करने के लिए भाजपानीत केंद्र सरकार ने दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार की बेशक निंदा की होगी लेकिन उसने खुद राजग सरकार के दो साल पूरे होने पर एक दिवसीय कार्यक्रम "एक नई सुबह" के आयोजन के प्रचार और विज्ञापन पर 36 करोड रूपये से अधिक खर्च किए।

याद रहे,एक नई सुबह कार्यक्रम के दौरान केंद्र सरकार ने अपनी उपलब्धियों का प्रदर्शन किया और अमिताभ बच्चन समेत बालीवुड की प्रमुख हस्तियों ने कार्यक्रम में सामाजिक पक्षों का समर्थन किया था। यह कार्यक्रम छह घंटे तक चला था।

आरटीआई के तहत आईएएनएस द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में यह जानकारी मिली है। दिल्ली में छह घंटे के कार्यक्रम के लिए प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के विज्ञापनों पर उक्त राशि खर्च की गई। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के तहत विज्ञापन और दृश्य प्रचार निदेशालय की ओर से मिले आरटीआई जवाब में कहा गया कि प्रचार पर केंद्र सरकार ने 36,64,88,085 रूपये खर्च किए।

दो साल का कार्यकाल पूरा होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में राजग सरकार ने गत 29 मई को इंडिया गेट पर एक भव्य समारोह का आयोजन किया था। प्रिंट मीडिया के विज्ञापनों पर 35.59 करोड रूपये खर्च हुए जबकि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के विज्ञापनों पर 1.06 करोड रूपये व्यय किए गए। इस बीच दूरदर्शन केंद्र ने एक और आरटीआई जवाब में कहा है कि उसने एक नई सुबह कार्यक्रम पर कुल 92 लाख रूपये खर्च किए। आरटीआई जवाब में बताया गया है कि अंग्रेजी, हिन्दी और क्षेत्रीय दैनिकों के अलावा सभी प्रमुख राष्ट्रीय दैनिक अखबारों को विज्ञापन दिए गए थे।

भाजपा ने आप सरकार को कोसा था...

याद रहे,विज्ञापनों एवं प्रचार पर सार्वजनिक धन की एक बडी राशि खर्च करने के लिए केंद्र सरकार और सत्ताधारी भाजपा ने दिल्ली की आप सरकार की कडी आलोचना की थी। दिल्ली सरकार ने साल 2015-16 के लिए प्रचार और विज्ञापनों के लिए 536 करोड रूपये आवंटित किए थे। संशोधित अनुमानों में इस राशि को घटाकर 100 करोड रूपये कर दिया गया था।

सरकारी विज्ञापनों की विषय वस्तु विनियमन पर केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा गठित समिति ने आप सरकार पर सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों के उल्लंघन का आरोप लगाया और उसे विज्ञापनों पर खर्च की गई पूरी राशि सरकारी खजाने में जमा करने का आदेश दिया। नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की एक रिपोर्ट में कहा गया कि पूर्ववर्ती सरकार की तुलना में विज्ञापनों और प्रचार पर आप सरकार के खर्च तीन गुना बढ गए हैं। इस मद में साल 2015-14 में 25.25 करोड रूपये खर्च हुए थे जो साल 2015-16 में बढकर 81.23 करोड रूपये हो गए। (आईएएनएस)

Web Title-36 crore spent on advertisements on ek nai subah programme on completion of two years of modi govt
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

Advertisement

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Advertisement
Copyright © 2017 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved