1 of 3

करवा चौथ: महिलाएं क्यों देखती हैं छलनी से चांद

हिंदू धर्म में महिलाओं के लिए करवा चौथ व्रत का खास महत्व है। इस साल 30 अक्टूबर यानी शुक्रवार को करवा चौथ का व्रत है। कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का व्रत आता है। यह व्रत सुख-सौभाग्य, दांपतत्य जीवन में प्रेम बरकरार रखता है और रोग, शोक व संकट का निवारण करता है। यह व्रत शाम को चंद्र दर्शन के बाद खोला जाता है। इससे एक खास परंपरा भी जुड़ी है। करवा चौथ का चांद हमेशा छलनी से ही देखा जाता है।


क्यों देखते है छलनी से चांद-----


इस व्रत की कथा के अनुसार, एक बार किसी बहन को उसके भाइयों ने स्त्रेहवश भोजन कराने के लिए छल से चांद की बजाय छलनी की ओट में दीपक दिखाकर भोजन करवा दिया। इस तरह उसका व्रत भंग हो गया। इसके पश्चात उसने पूरे साल चतुर्थी का व्रत किया और जब पुन: करवा चौथ आई तो उसने विधिपूर्वक व्रत किया और उसे सौभाग्य की प्राप्त हुई। उस करवा चौथ पर उसने हाथ में छलनी लेकर चांद के दर्शन किए।

यह भी पढें: गिफ्ट में ना दे ये 10 चीजें, शनिदेव हो जाएंगे नाराज!

यह भी पढें:
शरीर के चिन्हों (सामुद्रिक लक्षणों) से जानें स्त्रीयों की विशेषता

और पढ़े...

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:Why Women look at Moon through Sieve on Karwa Chauth
(News in Hindi खास खबर पर)
loading...
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement

Traffic

Advertisement

जीवन मंत्र

Daily Horoscope