• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 4

रूप चौदस:इस दिन महिलाएं अपना श्रृंगार कर, अपने रूप को निखारती हैं

नरक चतुर्दशी जिसे लोग रूप चौदस भी कहते हैं। कार्तिक मास के कृृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को नरक चतुर्दशी, यम चतुर्दशी या फिर रूप चतुर्दशी कहते हैं। इस दिन महिलाएं अपना श्रृंगार कर, अपने रूप को निखारती हैं। इसके अलावा इस दिन यमराज को ​खुश करने के लिए यमराज की पूजा करते हैं और व्रत करने का विधान भी है।

स्वच्छता और सुंदरता से आती है मां लक्ष्मी
शास्त्रों के अनुसार देवी मां लक्ष्मी उसी घर में आती हैं, जहां स्वच्छता, सुंदरता और पवित्रता हो। नरक चतुर्दशी यानी छोटी दिवाली के दिन घर की सफाई जरूर करनी चाहिए। घर की सफाई के साथ—साथ अपने रूप को भी निखारना चाहिए। रूप निखारने के लिए शरीर पर उबटन लगा कर स्नान करना चाहिए।

14 दिए जलाने की परम्परा
इस दिन रात को तेल अथवा तिल के तेल के 14 दीपक जलाने की परम्परा है। कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी नरक चौदस, रूप चतुर्दशी अथवा छोटी दीवाली के रूप में मनाई जाती है।



यह भी पढ़े :बनानी है बिगड़ी किस्मत तो ऐसे करें शिवजी की पूजा

यह भी पढ़े :महाभारत की ये बातें कर देंगी आपको हैरान

यह भी पढ़े

Web Title-Why Celebrating Naraka Chaturdashi
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: why celebrating naraka chaturdashi, diwali special article, narak chaturdashi, diwali celebration, diwali, goverdhan pooja, importance of diwali, importance of narak chaturdashi, importance of goverdhan pooja, bhaidooj, importance of bhaidooj, astrology in hindi
Khaskhabar.com Facebook Page:

जीवन मंत्र

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2017 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved