1 of 3

करवा चौथ: सही व्रत विधी, मिलेगा सौभाग्य....

Karwa chauth vrat vidhi in Hindi -

सुहागिन या पतिव्रता स्त्रयों के लिए करवा चौथ बहुत ही महत्वपूर्ण व्रत है। यह व्रत कार्तिक कृष्ण की चंद्रोदयव्यापिनी चतुर्थी को किया जाता है। यदि दो दिन की चंद्रोदय व्यापिनी हो या दोनों ही दिन, न हो तो मातृविद्धा प्रशस्यते के अनुसार पूर्वविद्धा लेना चाहिए। सत्रयाँ इस व्रत को पति की दीर्घायु के लिए रखती हैं। यह व्रत अलग-अलग क्षेत्रों में वहाँ की प्रचलित मान्यताओं के अनुरूप रखा जाता है, लेकिन इन मान्यताओं में थोड़ा-बहुत अंतर होता है। सार तो सभी का एक होता है पति की दीर्घायु।
करवा चौथ व्रत की प्रक्रिया....
- करवा चौथ में प्रयुक्त होने वाली संपूर्ण सामग्री को एकत्रित करें।
- व्रत के दिन प्रात: स्त्रानादि करने के पश्चात यह संकल्प बोलकर करवा चौथ व्रत का आरंभ करें
- मम सुखसौभाग्य पुत्रपौत्रादि सुस्थिर श्री प्राप्तये करक चतुर्थी व्रतमहं करिष्ये।
- पूरे दिन निर्जल रहें।
- दीवार पर गेरू से फलक बनाकर पिसे चावलों के घोल से करवा चित्रित करें। इसे वर कहते हैं। चित्रित करने की कला को करवा धरना कहा जाता है।

यह भी पढें: पर्स में ना रखें ये 5 चीजें, वरना हो जाओगे कंगाल

यह भी पढें: 3 दिन में बदलें किस्मत, आजमाएं ये वास्तु टिप्स


और पढ़े...

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:Karwa chauth vrat vidhi in Hindi
(News in Hindi खास खबर पर)
loading...
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement

Traffic

Advertisement

जीवन मंत्र

Daily Horoscope