1 of 4

जानिए, शादी से पहले क्यों करते हैं जन्मकुंडली का मिलान

विवाह के लिए वर-वधू की जन्मपत्री का मेलन करते समय मंगल ग्रह,नाडी और षडाष्टक का विचार करना अपरिहार्य होता है। आजकल ज्योतिष शास्त्र विषयक पुस्तकों में मंगल का उल्लेख प्रकर्षता के साथ किया जाता है। यदि जन्मकुंडली के 1,4,7,8 तथा 12 वें स्थान में मंगल ग्रह हो तो जातक मंगली माना जाता है। यदि यह कहकर ज्योतिष शास्त्र चुप बैठ जाता तो इतनी समस्याएं नहीं बढती। परंतु आश्चर्य की बात यह है कि उपर्युक्त एक नियम के लगभग 450 अपवाद बनाकर उस मंगल को दोष दिया जाता है।

इतना होने पर भी यदि कुंडली में मंगल दोष रह जाए तो "गोदावरी दक्षिणतीरवासिनां भौमस्य दोषो नहि विद्यते खलु" कहकर बाकी बची कुंडलियों का छुटकारा करा दिया जाता है।

[@ राहु का यह योग बनता है तलाक का कारण, जानिए राहु के दोष और उपाय]

खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
Web Title:astrology why we match birth chart
(News in Hindi खास खबर पर)
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement

जीवन मंत्र

आपका राज्य
Advertisement

राष्ट्रीय खबर

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope