• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
  • Results
1 of 1

लोकतंत्र बचाने की जंग जीतने वाला खुद अपनी जिन्दगी की जंग हार गया

Winning the battle to save democracy lost his life in sultanpur - Sultanpur News in Hindi

सुल्तानपुर । डा0 जितेन्द्र अग्रवाल ने देश के लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई तो जीत ली लेकिन अपनी जिन्दगी की लड़ाई वह हार गये । आज सुबह लम्बी बीमारी से लड़ते हुये लोकतंत्र के इस प्रहरी की जीवन लीला समाप्त हो गई । जितेन्द्र अग्रवाल के मौत की खबर पर पूरे जिले में शोक का माहौल है ।
नगर के चौक इलाके में रहने वाले डा जितेन्द्र अग्रवाल ने एमबीबीएस की डिग्री हासिल की थी ।शिक्षा के दौरान ही राजनीति में सक्रिय रहे जितेन्द्र ने जनसंघ ज्वाइन किया ।

वर्ष 1957,1962 और फिर 1969 का लोकसभा चुनाव लड़े लेकिन कामयाब नहीं हो सके । वर्ष 1974 में विधानसभा के चुनाव में पहली बार जनसंघ से विधायक बने । अग्रवाल की सक्रियता देख जनसंघ से उन्हे सूबे में प्रदेश उपाध्यक्ष भी बनाया गया । साल 75 में इमरजेंसी के दौरान उन्होंने इसका कड़ा विरोध किया ।एक साक्षात्कार के दौरान उन्होने बताया था कि यह एक न भूलने वाली त्रासदी थी । लोगों कीआजादी छीन ली गई थी । तानाशाही रवैया था । इसमें न कोई दलील न सुनवाई सीधे जेल भेज दिया जाता था । लोगों को घरों से पकडकर उनकी नसबंदी की जा रही थी लिहाजा डर और दहशत के चलते तमाम लोग खेतों में छुपकर दिन बिता रहे थे । जिसने भी इस मीसा और डीआईआर जैसे काले कानून के खिलाफ आवाज उठाई उसे जेल में ठूंस दिया गया । ऐसे में जितेन्द्र अग्रवाल ने भी इस काले कानून के खिलाफ बिगुल फूंक दिया । गिरफ्तारी की भनक लगी तो लखनऊ चले गये लेकिन समाज का दर्द समझा तो वापस आकर फिर से इसके खिलाफ आवाज बुलन्द की । पुलिस ने इनके मकान को घेर लिया लेकिन किसी तरह छुपते-छुपाते यह रेल पटरी किनारे से होते हुये बढैयाबीर की तरफ से कलेक्ट्रेट पहुंचे जहां कांग्रेस और इन्दिरा गांधी के खिलाफ नारेबाजी करते हुये गिरफ्तार होगये । इन्हें सीधे जिला कारागार भेज दिया गया । जेल में सत्याग्रही त्रिभुवन नाथ संडा और जितेन्द्रअग्रवाल एक ही बैरक में रहे ।निजाम बदला तो जनता पार्टी से इन्होने चुनाव लड़ा और एक बार फिर विधायक बने ।
निजाम बदला तो जनता पार्टी से इन्होंने चुनाव लड़ा और 1977 में जनता पार्टी से एक बार फिरसुलतानपुर से विधायक बने । पिछले कुछ वर्षों से खराब स्वास्थ्य के चलते राजनीति से दूरी बन गई थी लेकिन देश दुनिया में होने वाली गतिविधियों पर वह जब-तब अपनी राय जरूर दिया करते थे ।

अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Web Title-Winning the battle to save democracy lost his life in sultanpur
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement
स्थानीय ख़बरें

उत्तर प्रदेश से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

Advertisement

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Advertisement
Copyright © 2017 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved