• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
  • Results
1 of 1

रंगों का अनोखा ढंग, यहां गैर भी हो जाते है अपने

The unique way of colors, here also becomes your own non - Jodhpur News in Hindi

जोधपुर। मारवाड़ रंगों वाला रंगीला प्रदेश है और समूचा क्षेत्र फाल्गुन के रंग में गजब का रंग जाता है। इन दिनों भरे जाने वाले मेलों में लोग आस्था और संस्कृति के संगम में जमकर गाते है। यहां गैर नृत्य ग्रामीण इलाकों में किया जाता है। जोधपुर, पाली, सिरोही, जालोर, बाड़मेर, नागौर, जैसलमेर और बीकानेर के ग्रामीण इलाकों में फाल्गुन लगते ही गैर नृत्य शुरू हो जाता है। वहीं यह नृत्य डंका पंचमी से भी शुरू होता है। फाल्गुन के पूरे महीने रात में चौहटों पर ढोल और चंग की थाप पर यह नृत्य किया जाता है।
चढ़ा फाल्गुन का रंग
शहर में कागा स्थित शीतला माता मंदिर में गैर नृत्य चल रहा है। अब यहां लोग मां के मंदिर में गैर नृत्य की वेशभूषा में सजकर आ रहे हैं। पारंपरिक परिधान में चंग की थाप पर नृत्य करते भक्तों का सैलाब शहर की फिंजा को अपने ही रंग में रंग रहा है। गुलाबी वेश और गुलाबी छंटा फाल्गुन के रंग को और भी ज्यादा खूबसूरत बना रहे हैं।
गैर है पारम्परिक नृत्य
जोधपुर मारवाड़ रियासत की राजधानी रहा है और यही कारण भी है कि यहां इस परम्परा का अलग ही अंदाज देखने को मिलता है। इन दिनों गैरियों की विशेष आवभगत की जाती है। लोग अपने घरों के बाहर गैर में शामिल लोगों की मनुहार करते हैं। जिस गली से गैर गुजरती है, इनका पकवानों से स्वागत किया जाता है।

अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Web Title-The unique way of colors, here also becomes your own non
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement
स्थानीय ख़बरें

राजस्थान से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

Advertisement

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Advertisement
Copyright © 2017 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved