• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

लोस उपचुनाव: फूलपुर-गोरखपुर सीट पर कौन बनेगा BJP का खेवनहार ?

अमरीष मनीष शुक्ल
इलाहाबाद /गोरखपुर
। यूपी विधानसभा चुनाव में जब दलबदलुओं को टिकट दिया जा रहा था। उसी वक्त भाजपा ने साफ कर दिया था कि भाजपा टिकट पार्टी से जुड़ाव पर नहीं, जीत के निर्धारित मानक को पूरा करने वालों को मिलेगा। भाजपा का वहीं टेस्ट उप चुनाव में भी शुरू हो गया है और पार्टी जुड़ाव वालों के लिये फिर से अच्छे संकेत नहीं है। दरअसल गोरक्षपीठ से जुड़ी गोरखपुर लोकसभा और नेहरू परिवार से जुड़ी फूलपुर लोकसभा सीट पर चुनावी सरगर्मी शुरू हो गई है। देश को पहला प्रधानमंत्री देने वाली फूलपुर लोकसभा एक बार फिर चुनाव के लिये तैयार हो रही है। मोदी लहर पर सवार केशव मौर्य ने पहली बार इस सीट पर भगवा लहराया। जबकि गोरखपुर सीट का तो भाजपा के लिये योगी आदित्यनाथ का चेहरा ऐतिहासिक समीकरण रहा है। लेकिन अब यहां उपचुनाव में भी कमल खिला रहे। ऐसे समीकरण भाजपा बनाने में जुटी है। मुश्किल अब यह है कि भाजपा के ये दोनों कद्दावर चेहरे चुनाव मैदान में नहीं है। इनकी जोड़ तोड़ का कोई चेहरा भी भाजपा के लिये नहीं है। अभी तक भाजपा ने इन दोनों स्थानों पर ग्राउंड समीक्षा कराई। तो दूसरे किसी नाम पर टेस्ट पाजिटिव नहीं मिला है।

दरअसल पिछले कुछ वर्षों में चुनाव का बुनियादी वसूल बदला है। पार्टी प्रत्याशी के जनता पर असर और पकड़ का पता लगाने के बाद ही टिकट फाइनल करती है। यानी कि राजनीतिज्ञों द्वारा यूपी की नब्ज टटोलने का शोध चल रहा है। पूर्व में विधान सभा चुनाव में पहले मायावती फिर मुलायम सिंह ने सही नब्ज पकड़ी और पूर्ण बहुमत में आये। लेकिन लोकसभा चुनाव से असली नब्ज तो भाजपा ने पकड़ी है। जो बदस्तूर विधानसभा चुनाव में भी जारी है। लेकिन असली मुश्किल तो अब उप चुनाव में है। भाजपा की नाक दो सीटों पर अटकी है। यह कोई साधारण सीटें नहीं हैं और इनका प्रभाव सीधे लोकसभा चुनाव को पर पड़ेगा। भाजपा नहीं चाहती कि इन सीटों पर कोई कोताही बरते। इसलिये कद्दावर प्रत्याशी की तलाश पिछले 6 महीने से जारी है। लेकिन भाजपा के टेस्ट में अभी तक कोई खरा नहीं उतर सका है।


भाजपा ऐसे चेहरों की तलाश कर रही है। जो सीएम योगी और केशव मौर्य की कमी को पूरी कर सके। पर भाजपा ने इन सीटों पर कभी दूसरे चेहरे को उभरने का मौका ही नहीं दिया। नतीजतन भाजपा खुद नहीं समझ पा रही कि उपचुनाव में टिकट किसे दिया जाय। दरअसल दावे और टिकट की लाइन में दर्जन भर प्रत्याशी फूलपुर लोकसभा से है। इनके पोस्टर बैनर भी लग चुके हैं। लेकिन समस्या वहीं है कि बाहरी लोगों को यहां कि जनता क्यों स्वीकार करेगी। खुद केशव मौर्य का कार्यकाल फूलपुर लोकसभा में अच्छा नहीं रहा है। उनके गोद लिये गांव तक में हालात बदत्तर हैं। यह बात भाजपा नेतृत्व को भी पता है। इसलिये टिकट देने से पहले वह सारे संभावित प्रत्याशियों को ग्राउंड पर भेज रही है। उनकी रिपोर्ट कार्यकर्ताओं से ली जा रही है। स्थानीय नेतृत्व ने तो पहले ही साफ कर दिया है। अभी तक कोई भी खरा नहीं उतरा है । सब टेस्ट में फेल हैं।

भाजपा के स्थानीय नेतृत्व में इस बात की पुष्टि हैं कि पार्टी किसी बाहरी को मैदान में उतार सकती है। क्योंकि विधान सभा चुनाव में भी बाहरी प्रत्याशी ही जीत कर हावी हुए थे। उस वक्त भी दल बदलुओं का विरोध हुआ और इस बार भी होगा। लेकिन विरोध सिर्फ सैद्धांतिक ही रहेगा। कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी फिर से जीत की इबारत लिखने की होगी। भाजपा कोशिश कर रही है कि दूसरे दल से आया प्रत्याशी अपना खुद का वोट बैंक लेकर आयेगा। जो भाजपा के पारंपरिक वोट के साथ मिलकर जीत दर्ज कर सकता है।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-who is next candidate after cm yogi and keshav maurya on gorakhpur and phoolpur seat
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: next candidate after cm yogi and keshav maurya, gorakhpur seat, phoolpur seat, keshav prasad maurya, yogi adityanath, loksabha byelection 2017, up goverment, amit shah, naresder modi, important seat for bjp, gorakhpur latest news, allahabad phoolpur latest news, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, allahabad news, allahabad news in hindi, real time allahabad city news, real time news, allahabad news khas khabar, allahabad news in hindi
Khaskhabar UP Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

उत्तर प्रदेश से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2017 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved