• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

कल्कि बोली- मेरी परवरिश ने मेरी आवाज को...

मुंबई। शब्दों पर ध्यान दिए बिना अपने विचार देने वाली राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेत्री कल्कि कोचलिन का कहना है कि उनकी परवरिश और सांस्कृतिक चेतना ने उन्हें एक स्वछंद व्यक्ति बनने में मदद की है। लैंगिक समानता हो, चाहे महिलाओं के यौन उत्पीडऩ या एलजीबीटी समुदाय को सर्मथन, कल्कि ने हमेशा अपने विचारों को ²ढ़ता से व्यक्त किया है।

कल्कि से सामाजिक मुद्दों पर खड़े होने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया, ‘‘मुझे लगता है कि मेरी परवरिश ने मुझे मेरी आवाज और विचारों की तलाश में मदद की और एक विशिष्ट प्रकार की संवेदनशीलता मेरे अंदर विकसित की। मैं एक बहुत ही खुले सांस्कृतिक वातावरण में बड़ी हुई हूं, क्योंकि मैं एक फ्रांसिसी-दक्षिण भारतीय परिवार में पैदा हुई थी और ओरोविल आश्रम में बड़ी हुई, वहां का पर्यावरण बहुत ही समावेशी था। मैं धार्मिक नहीं हूं, लेकिन बहुत आध्यात्मिक हूं।’’

कल्कि ने इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में प्रदर्शन के दौरान साझा किया कि उन्हें पता है कि सही मुद्दे पर उनकी राय लोगों के दिलों को छूते हैं।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-My Upbringing Helped Me To Find My Voice says Kalki Koechlin
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: kalki koechlin, my upbringing helped me to find my voice, national award-winning actor kalki koechlin, bollywood news in hindi, bollywood gossip, bollywood hindi news
Khaskhabar.com Facebook Page:

बॉलीवुड

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2017 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved