• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 3

जूही की नजर में अब भी नायक केंद्रित हैं फिल्में, हैं इन बातों से हैरान

नई दिल्ली। अभिनेत्री जूही चावला का मानना है कि आज लड़कियों पर काफी दवाब है और वह यह देखकर हैरान हैं कि लड़कियों का छोटे कपड़े पहनना और ‘जीरो साइज’ दिखना ‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता’ हैं।

उन्होंने कहा कि मनोरंजन जगत में महिलाओं के लिए भले ही काफी बदलाव आया है, लेकिन कुछ चीजें पहले जैसी हैं, जैसे कि फिल्में अब भी नायक केंद्रित ही हैं।

एपिक चैनल के टीवी शो ‘शरणम’ की टीम में वर्णनकर्ता के रूप में शामिल हुईं अभिनेत्री इस बात को नहीं समझती कि महिलाओं पर समानता साबित करने के लिए दवाब क्यों है।

जूही ने आईएएनएस से एक ईमेल साझात्कार में कहा, ‘‘मुझे यकीन नहीं है कि अभी दुनिया में लिंग और समानता पर बहस क्यों है। कुछ चीजें बेहतर हुई हैं और कुछ चीजें बदल गई हैं। मुझे यकीन नहीं है कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं जैसे, 15 वर्ष पहले एक फिल्म के सेट पर 100 लोगों के साथ एक या दो महिलाएं होती थीं। आज, एक फिल्म इकाई में 35 महिलाएं और 65 पुरुष होंगे, जो बेहतरीन था।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए हां, महिलाओं के लिए बाहर जाने और काम करने के स्वतंत्रता है, लेकिन दूसरी तरफ फिल्म अब भी नायक-केंद्रित है। अधिकांश फिल्मों में हीरो नायक हैं।’’

अभिनेत्री का मानना है कि अभिनेत्रियों पर दवाब बढ़ रहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि पर्दे पर लड़कियों के लिए अधिक दवाब है, उन्हें छोटे कपड़े पहने, जीरो-साइज दिखने, लिव-इन रिलेशनशिप के साथ सहज और शांत दिखना होता है। महिलाओं पर दवाब क्यों है? क्या यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है?, यह सही है ना?’’


ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Films are still hero-centric: Juhi Chawla
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: juhi chawla, bollywood news in hindi, bollywood gossip, bollywood hindi news
Khaskhabar.com Facebook Page:

बॉलीवुड

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved