• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

बनावटीपन फिल्म को बेकार बनाता है : इम्तियाज अली

मुंबई। फिल्म ‘जब वी मेट’ को रिलीज हुए एक दशक बीत गए, लेकिन कई बॉलीवुड प्रेमियों के जेहन में यह आज भी ताजा बना हुआ है। निर्देशक इम्तियाज अली का कहना है कि किसी फिल्म को यादगार बनाने के लिए उसे साफगोई के साथ पेश करना महत्वपूर्ण है।

इम्तियाज के निर्देशन में आई अंतिम फिल्म ‘जब हैरी मेट सेजल’ उम्मीद पर खरी नहीं उतरी। सुपरहिट फिल्म ‘जब वी मेट’ के बाद उनकी ‘लव आज कल’, ‘रॉकस्टार’, ‘कॉकटेल’, ‘हाईवे’ और ‘तमाशा’ आई है। ‘जब वी मेट’ की कहानी जिंदादिल और चुलबुली पंजाबी लडक़ी गीत और मुंबई के एक कारोबारी की कहानी है, जिसे मनोरंजक तरीके से करीना कपूर खान और शाहिद कपूर ने अपने उम्दा अभिनय से फिल्म में स्थायी प्रभाव छोड़ा है।

इम्तियाज ने आईएएनएस को बताया, ‘‘जब आप कोई फिल्म बनाते हो, तो आप अपना सबसे अच्छा देते हो, आप अच्छा लिखते हो, आप इसे बिल्कुल नया और मनोरंजक बनाने का प्रयास करते हो। लेकिन एक बात मैंने महसूस की है कि अगर आप फिल्म में बनावटीपन डालते हैं और उस समय के लिए मसालेदार बनाने की कोशिश करते हैं तो ये चीजें बहुत जल्द ही अनावश्यक दिखनी शुरू हो जाती हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘याद रखे जाने के लिए फिल्म को साफ-सुथरी रखना बेहद जरूरी है।’’

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Artificiality in film makes it redundant: Imtiaz Ali
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: artificiality in film makes it redundant, imtiaz ali, jab we met, bollywood news in hindi, bollywood gossip, bollywood hindi news
Khaskhabar.com Facebook Page:

बॉलीवुड

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2017 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved